Home » हेल्थ केयर टिप्स » Health benefits of Garlic in eating in winter
 

लहसुन के इन गुणों के बारे में नहीं जानते होंगे आप, सर्दियों में ऐसे करें इस्तेमाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 November 2019, 15:58 IST

सर्दियों का मौसम शुरु होते ही सर्दी-जुकाम होना शुरु हो जाता है. ऐसे में दवाईयों को सेवन करना हमारी सेहत के लिए और भी घातक हो जाता है. लेकिन अगर आप सर्दियों में अपनी सेहत का खयाल रखना चाहते हैं तो घरेलू चीजों से भी अपने आपको स्वस्थ रख सकते हैं. इसके लिए सबसे अच्छा है लहसुन का सेवन करना.

लहसुन का सेवन करने से न सिर्फ सुंदरता बढ़ाती है बल्कि इससे शरीर भी स्वस्थ रहता है. दरअसल, लहसुन में कैल्शियम, फॉस्फोरस, लौह तत्व, विटामिन सी का बड़ा भंडार मिलता है. साथ ही, कुछ मात्रा में विटामिन बी कॉम्पलेक्स भी इससे मिलता है.

पुराने समय में मिस्र के लोग सेहत को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए रोज लहसुन खाया करते थे. आज के शोधकर्ता भी इस बात से सहमत हैं कि लहसुन बड़े स्तर पर एक एंटीबायोटिक का काम करता है. यह बैक्टीरिया-रोधी, फफूंद-रोधी, परजीवी-रोधी व वायरस-रोधी है. आइए जानते हैं कि लहसुन को अपने आहार में शामिल करने के क्या फायदे हैं.

दिल संबंधी तंत्र के लिए लहसुन जादुई काम करता है. रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने में यह खास प्रभावकारी है. लहसुन सीने की जकड़न में और सर्दी-जुकाम से राहत देने में असरदार रहता है. यह सीने की अन्य समस्याओं में भी राहत देता है.

पशुओं पर किए गए कई प्रयोगों में यह बात सामने आई है कि लहसुन में ट्यूमर-रोधी गुण भी होते हैं. ब्रेस्ट कैंसर के संदर्भ में चूहों पर हुए प्रयोगों में पाया गया कि उन्हें ताजे लहसुन से अपने कैंसर से लड़ने में मदद मिली. लहसुन का उपयोग नपुंसकता और यौन कमजोरी आदि के इलाज में भी किया जाता है. स्पेन और इटली में पारंपरिक रूप से लहसुन का बड़े स्तर पर आहार में प्रयोग होता रहा है. संभवत: इसी संदर्भ में यह इन देशों में लोकप्रिय हुआ.

क्या लहसुन का तेल, उसके कैप्सूल, उसकी गोलियां आदि ताजा लहसुन की तुलना में बेहतर होती हैं? कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि ये भी असरदार होते हैं, जबकि कुछ का कहना है कि उनमें ‘एक्टिव गार्लिक कंपाउंड्स’की मात्रा बहुत कम या ना के बराबर ही रह जाती है.

हालांकि हर हाल में ताजा लहसुन का इस्तेमाल करना अच्छा होता है, क्योंकि यह बैक्टीरिया को खत्म करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है. माना जाता है कि कच्चा लहसुन रक्त की तरलता बनाए रखता है और कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी ठीक रखता है. यह रक्तदाब कम करने में भी फायदा करता है. लहसुन दिल के लिए बहुत फायदेमंद होता है.

लहसुन खाने के बाद मुंह से आने वाली उसकी तीखी गंध से छुटकारा पाना है, तो आमतौर पर कॉफी, शहद, दही, दूध या लौंग खाने की सलाह दी जाती है. लेकिन कुछ का मानना है कि पार्सले खा सकते हैं, क्योंकि इसमें पाया जाने वाला क्लोरोफिल लहसुन की गंध को कम करने में कारगर होता है. पेपरमिंट या चुइंगम भी आजमा सकते हैं. इलायची भी असरदार रहेगी.

बीते 5,000 सालों से लहसुन को बतौर एंटीसेप्टिक, वात-रोधी तत्व के तौर पर उपयोग किया जा रहा है. यहां तक कि बाल उगाने में भी इसे असरदार माना जाता है. तीखी गंध वाला लहसुन आथ्र्राइटिस, ड्रॉप्सी, इंफ्लुएंजा और टीबी से लेकर कई प्रकार की बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल होता रहा है. कुछ लोग स्वस्थ रहने के लिए रोज लहसुन की एक कली खाने की सलाह देते हैं.

ये भी पढ़ें-

पत्ता गोभी खाने वाले हो जाएं सावधान, दिमाग में पहुंचेगा यह कीड़ा और ले लेगा आपकी जान

रोटी के साथ ये चीजें खाने से करें तौबा , वरना हो जाएंगी ये परेशानी

रोजाना खाते हैं बादाम तो जान लें ये बात, ज्यादा खा लिया तो हो जाएगा भारी नुकसान

First published: 17 November 2019, 15:58 IST
 
अगली कहानी