Home » हेल्थ केयर टिप्स » Heart remains better with Full-Fat milk rather than skimmed milk, claims study
 

दिल के लिए स्किम्ड मिल्क से बेहतर है फुल क्रीम दूध

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 February 2018, 18:08 IST

वजन कम करने और मोटापे से बचने के लिए लोगों में कम वसा वाले भोजन लेने का चलन बढ़ता जा रहा है. ऐसा माना जाता है कि लो फैट (कम वसा) उत्पाद खाने से ब्लड कोलेस्ट्रॉल लेवल भी नियंत्रित रहता है. हालांकि, कई शोध के परिणाम बताते हैं कि ऐसे भोजन कुछ बेहतर नहीं करते हैं.

अब एक अन्य शोध ने यह सिद्ध किया है कि स्किम्ड (फैट हटाया हुआ दूध) या सेमी-स्किम्ड की तुलना में फुल-फैट (फुल क्रीम) दूध दिल के लिए ज्यादा बेहतर है. यह शोध डेनमार्क स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कोपनहेगेन द्वारा किया गया है जो यूरोपियन जर्नल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रिशन (ईजेसीएन) की वेबसाइट में प्रकाशित हुआ है.

शोधकर्ताओं ने पाया कि फुल क्रीम (फैट) दूर हाई-डेंसिटी लिपोप्रोटींस (एचडीएल) के बढ़ने में मदद करता है. एचडीएल को गुड-कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता है, जिसकी जरूरत शरीर को होती है.

ईजेसीएन जर्नल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, "कई दशकों से पोषण संबंधी दिशा-निर्देशों में कम-वसा वाले डेयरी प्रोडक्ट्स (दूध से बने उत्पाद) के इस्तेमाल की सलाह दी जाती थी क्योंकि दूध या दूध से बने उत्पादों में सैचुरेटेड फैट बहुत होता है जो एलडीएल कोलेस्ट्रॉल से खून को गाढ़ा करता है. हालांकि, शोधों के विश्लेषण से पता चलता है कि दूध के पदार्थ लेने और हृदय रोग के जोखिम के बीच कोई संबंध नहीं है और यहां तक की यह टाइप 2 डायबिटीज से भी दूर रखने में मदद करता है."

गौरतलब है कि फुल फैट दूध का मतलब उस दूध से होता है जिसमें पूरी तरह क्रीम होती है. जबकि स्किम्ड मिल्क का मतलब फुल क्रीम दूध से मलाई (वसा) हटा देने के बाद बचे हुए दूध से होता है. स्किम्ड मिल्क पूरी तरह वसा रहित (फैट-फ्री) होता है. हालांकि इसमें 0.1 फीसदी से लेकर 0.3 फीसदी फैट होता है. 

First published: 1 February 2018, 18:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी