Home » हेल्थ केयर टिप्स » High blood pressure is heavily burdensome on Indians, 16 million deaths in 2016
 

सावधान : हाई ब्लड प्रेशर पड़ रहा है भारतीयों पर भारी, 2016 में हुई 16 लाख मौतें

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2018, 15:58 IST

भारत में उच्च रक्तचाप या ब्लड प्रेशर लोगों पर भारी पड़ता जा रहा है. इंडिया स्पेंड की एक रिपोर्ट की माने तो 2017 में जारी आंकड़ों के अनुसार भारत में हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप 10 में से तीन भारतीयों पर असर डाल रहा है. रिपोर्ट के अनुसार देश में होने वाले सभी मौतों में से 17.5 फीसदी मौतों लिए उच्च रक्तचाप जिम्मेदार है.

2016 में मृत्यु और अक्षमता के लिए उच्च रक्तचाप चौथा प्रमुख जोखिम कारक भी था और भारत में 1.6 मिलियन से अधिक मौतों के लिए जिम्मेदार था. यह आंकड़ा मॉरीशस की आबादी से ज्यादा और भूटान की आबादी के दोगुने से भी ज्यादा है.

विशेषज्ञों का मानना है कि उच्च रक्तचाप को रोकना, निदान या इलाज करना आसान है, लेकिन ज्यादातर भारतीय समस्या से अनजान हैं और यहां तक कि कुछ ही लोगों में यह नियंत्रण में हैं.

ब्लड प्रेशर दिल और गुर्दे जैसे प्रमुख अंगों पर असर डालता है. रिपोर्ट के अनुसार 2013 में दुनियाभर में इससे 94 लाख मौतें हुई थी. 2016 में दिल की बीमारी के कारण सभी मौतों में से 53.8 फीसदी के लिए उच्च रक्तचाप जिम्मेदार था. जबकि स्ट्रोक से हुई मौतों में से 55.7 फीसदी और पुरानी गुर्दे की बीमारी के कारण मृत्यु में से 54.3 फीसदी मौतों के लिए उच्च रक्तचाप जिम्मेदार है.

रिपोर्ट के अनुसार 18 साल से ऊपर के करीब 1 मिलियन भारतीयों को स्क्रीन करना है, जिनकी अभी तक जांच नहीं की गई है. सरकार गैर-संक्रमणीय बीमारियों (एनसीडी) की राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण मिशन जैसी योजनाओं के साथ नवीनीकृत ध्यान के माध्यम से समुदायों की जांच कर रही है.

ये भी पढ़ें : काम का तनाव है बेहद घातक, समय से पहले हो जाती है मौत

First published: 8 June 2018, 15:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी