Home » हेल्थ केयर टिप्स » HIV patient becomes second successful person ever cured of Aids virus
 

दुनिया में दूसरी बार हुआ लाइलाज Aids का सफल इलाज, जानिए कैसे हुआ ये कारनामा

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 March 2019, 16:11 IST

HIV Aids एक ऐसी बीमारी है जिसका दुनिया में कोई इलाज नहीं है, जिससे कि एड्स का मरीज पूरी तरह से ठीक हो जाए. दरअसल, लंदन के डॉक्टर्स ने दावा किया है कि उन्होंने एड्स से पीड़ित एक मरीज का सफल इलाज किया है. ऐसे दूसरी बार है कि एचआईवी एड्स से पीड़ित किसी मरीज के इलाज में पूरी तरह से सफलता मिली हो.

चिकित्सकों ने दावा किया है कि एचआईवी प्रतिरोधी क्षमता रखने वाले व्यक्ति का 'बोन मैरो' संक्रमित व्यक्ति का ट्रांसप्लांट करने के बाद वो पूरी तरह से ठीक हो गया. जांच के बाद डॉक्टरों ने उसे एड्स मुक्त घोषित कर दिया. बता दें कि एड्स ऐसी जानलेवा बीमारी है जिसका कोई इलाज नहीं है. हालांकि इस मरीज के नाम को अभी तक सार्वजनिक नहीं किया गया है.

बताया जा रहा है कि इस मरीज को करीब तीन साल पहले एचआईवी प्रतिरोधी स्टेम सेल प्रतिरोपित किया गया था. डॉक्टरों ने करीब 19 महीने पहले इस युवक को दी जा रही एंटी-रेट्रोवायरल दवाएं बंद कर दीं. इसके बाद से रोगी में एचआईवी वायरस के कोई लक्षण दिखाई नहीं दिए.

इस मरीज का इलाज करने वाले डॉक्‍टरों को स्‍टेम सेल का एक ऐसा डोनर मिला, जिसके शरीर में एक ऐसा दुर्लभ जीन म्‍यूटेशन हुआ था जो प्राकृतिक तौर पर एचआईवी के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता मुहैया कराता है. यह जानकारी होने पर डॉक्‍टरों को लगा कि कैंसर के साथ-साथ इसके एचआईवी का भी इलाज हो जाएगा. यह जीन म्‍यूटेशन दुनियाभर के महज एक प्रतिशत लोगों में पाया जाता है. यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के शोधकर्ता रविंद्र गुप्‍ता का कहना है, "ऐसा जीन मिलना लगभग असंभव घटना है.

इस व्यक्ति का नाम सार्वजनिक ना होने की वजह से उसे लंदन पेशेंट कहा जा रहा है. इस रोगी का मामला भी एचआईवी वायरस से औपचारिक तौर पर निजात पा चुके पहले अमेरिकी शख्स की तरह है. टिमोथी ब्राउन का ये शख्स भी एचआईवी से पीड़ित था. उसका भी साल 2007 में इसी तरह का इलाज किया गया था. उसके बाद ब्राउन पूरी तरह ठीक हो गए. बता दें कि ब्राउन पहले बर्लिन में रहा करते थे.

चेहरे के दाग-धब्बे हटाने के लिए पानी में मिलाकर इस्तेमाल करें ये चीज

First published: 5 March 2019, 16:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी