Home » हेल्थ केयर टिप्स » How to control cold and cough by doing yoga know here health tips
 

सर्दी-जुकाम से हैं परेशान तो अपनाएं ये आसान योगासन, तुरंत मिलेगा आराम

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 January 2019, 12:24 IST

सर्दियों के मौसम में हर इंसान को सर्दी-जुकाम होना आम बात है. कई बार बहुत कोशिश करने बावजूद भी सर्दी जुकाम नहीं जाता. ऐसे में हम दवाईयां ले लेकर परेशान हो जाता है. आज हम आपको सर्दी को मौमस में सर्दी-जुकाम की परेशानी से निजात दिलाने के लिए कुछ जरूरी उपाय बताने जा रहे हैं. वो भी बिना किसी दवाई या टैबलेट के आप इन सब से निजात पा सकते हैं.

आज हम आपको कुछ ऐसे योगासन के बारे में बताने जा रहे हैं जो सर्दी-जुकाम को खत्म करने में आपकी मदद करेंगे. योगाचार्यों के मुताबिक सर्दी-जुकाम एक हल्की तथा सामान्य शारीरिक गड़बड़ी है, जो आमतौर पर एक हफ्ते में खुद ही ठीक हो जाती है, लेकिन कई बार जरूरी सावधानी न बरतने की वजह से ये फ्लू, ब्रोंकाइटिस, ब्रोंकोनिमोनिया आदि का रूप भी ले लेती है.

सर्दी-जुकाम होने के प्रमुख कारणों में वायरल इन्फेक्शन, मौसम का बदलना, ठंडी हवा का लगना, अनुपयुक्त आहार, व्यायाम का अभाव, मांसपेशियों का शिथिल पड़ना, कब्ज की शिकायत आदि प्रमुख हैं. लेकिन अगर आप रोजाना योग करते हैं तो इस समस्या से बच सकते हैं.

बता दें कि योग हमारे शरीर ही नहीं बल्कि मन को भी दुरुस्त रखने में हमारी मदद करता है. योग करने से शरीर क्रियाशील रहता है. योग का नियमित अभ्यास करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, जिसके कारण सर्दी-जुकाम की समस्याओं से आपको निजात मिलती है.

बता दें कि सर्दी-जुकाम तथा वायरल इन्फेक्शन आदि की स्थिति में यौगिक क्रियाओं का अभ्यास नहीं करना चाहिए. अगर किसी को सर्दी जुकाम की समस्या है तो सबसे बेहतर उपाय उपवास करना है. उपवास या आहार नियंत्रण कर आप भी सर्दी जुकाम की समस्या को टाल सकते हैं. बता दें कि जैसे ही रोग के प्रारंभिक लक्षण दिखें, यदि संभव हो तो दिन भर का या एक समय का भोजन त्याग दें.

ऐसा करने से रोग की तीव्रता तुरंत आधी हो जाएगी. साथ में दिन भर हल्के गर्म पानी का सेवन करते रहें. अदरक, काली मिर्च, दालचीनी तथा मेथी की चाय नियमित अंतराल पर पिएं और आराम करें. यदि बुखार न हो तो नेति-कुंजल का अभ्यास करने से रोग जल्दी ठीक हो जाता है.

केवल एक दिन उपवास, पूर्ण विश्राम तथा योगनिद्रा के अभ्यास से सर्दी-जुकाम को ठीक किया जा सकता है. स्वस्थ होने पर यदि कुछ यौगिक क्रियाओं का अभ्यास किया जाए तो रोग के बाद की कमजोरी और पीड़ा को कम किया जा सकता है. यही नहीं भविष्य में होने वाले किसी भी रोग की आशंका को भी टाला जा सकता है.

ये योगासन होंगे लाभदायक

बता दें कि जुकाम ठीक होने के बाद शुरुआत में हल्के आसन जैसे पवनमुक्तासन, वज्रासन, शशांकासन, मेरुवक्रासन, धनुरासन, भुजंगासन आदि का ही अपनी क्षमता के मुताबिक अभ्यास करना चाहिए. धीरे-धीरे जैसे शरीर की क्षमता में वृद्धि हो, अभ्यास में जानुशिरासन, सुप्त वज्रासन, ताड़ासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, त्रिकोणासन आदि भी शुरु कर देना चाहिए. यदि सूर्य नमस्कार का नियमित अभ्यास किया जाए तो सर्दी-जुकाम, खांसी आदि के साथ-साथ अन्य रोगों की आशंका भी कम हो जाती है.

सर्दी जुकाम में प्राणायाम भी है उपयोगी

बता दें कि जुकाम, खांसी, बुखार के ठीक होने पर सरल कपालभाति तथा नाड़ीशोधन प्राणायाम का अभ्यास करने से कमजोरी, रोग प्रतिरोधक क्षमता, उत्साह एवं स्वास्थ्य में लाभ मिलता है. नियमित प्राणायाम करने से बंद नाक और कफ से होने वाली समस्या में भी राहत मिलती है. बता दें कि योगासन की शुरुआत कर रहे हैं तो विशेषज्ञ की देख-रेख में ही करें.

ये भी पढ़ें- फोन को सिरहाने रखकर सोने वाले हो जाएं सावधान, मंडरा रहा है इस गंभीर बीमारी का खतरा

First published: 10 January 2019, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी