Home » हेल्थ केयर टिप्स » how to protect our eye from cataract or motiyabind, cataracts are the most common cause, medicine for cataract, health tips, home tips
 

आंखों में क्यों होती है मोतियाबिंद की बीमारी, जानें वजह

न्यूज एजेंसी | Updated on: 30 January 2018, 18:15 IST

आंखों की समस्या आम बात हो गई है. बड़ों में ही नहीं बच्चों की आंखें खराब होने के तमाम मामले सामने आते हैं. जिनमें मोतियाबिन्द प्रमुख हैं. दरअसल, कार्निया की मोटाई को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार एक प्रोटीन की वजह से एक प्रकार के नेत्र रोग का खतरा पैदा हो सकता है. ग्लूकोमा (मोतियाबिंदु) में नेत्र रोगों के कई विकार शामिल होते हैं, जो आंख पर दबाव बढ़ाता है और नेत्र संबंधी नसों को नुकसान पहुंचाता है, जिससे आगे चलकर नेत्रहीनता हो सकती है

चूहों पर की गई रिसर्च

इस शोध को चूहों पर किया गया है. इसमें पाया गया कि चूहों के जीन के आनुवांशिक विभिन्नता में जो प्रोटीन पीओयू6एफ2 के लिए कोड करता है, वह आंख की संरचना पर असर डाल सकता है और व्यक्ति में ग्लूकोमा का खतरा बढ़ा सकता हैशोधकर्ताओं ने जब पीओयू6एफ2 के वाहक जीन को हटा दिया तो प्रभावित चूहों में सामान्य चूहों के मुकाबले कार्निया पतली पाई गई.

शोधकर्ताओं ने पाया है कि बहुत से जीन का जटिल मिश्रण व बदलाव साथ ही साथ पर्यावरण संबंधी स्थितियां ग्लूकोमा के लिए जिम्मेदार होती हैं. यह पतली कार्निया का सबसे आम जोखिम कारक है.

क्या कहते हैं प्रोफेसर एल्डान

अमेरिका के अटलांटा के इमोरी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एल्डान ई. गेईसर्ट ने कहा, "हमें उम्मीद है कि मध्य कार्निया की मोटाई व मोतियाबिंद के बीच संबंध को परिभाषित करने से हमें ग्लूकोमा के जल्दी पहचान में सहायता मिलेगी और इससे बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकेगा."

First published: 30 January 2018, 18:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी