Home » हेल्थ केयर टिप्स » How to protect tooth from Pyreia and how to reduced gums problem
 

दांतों को पायरिया से बचाने और दूध जैसे सफेद बनाने के लिए इन चीजों का करें इस्तेमाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 November 2019, 14:46 IST

आजकल दांतों की समस्या आम बात हो गई है. इनमें दांतों में सड़न और पायरिया जैसी बीमारियां शामिल हैं. पायरियां मसूढ़ों को भी प्रभावित करता है. पायरिया की बीमारी से परेशान होने पर कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. इससे बचने के लिए इसके कारण और लक्षणों को जानना भी बेहद जरूरी होता है. दांतों की ठीक से देखभाल न करने की वजह से पायरिया की शुरुआत होती है.

जिसमें अनियमित ढंग से समय बेसमय कुछ-न-कुछ खाते रहने के कारण तथा भोजन के ठीक से न पचने की वजह से भी ऐसे होता है. बता दें कि  लि‍वर की खराबी के कारण रक्त में अम्लता बढ़ जाती है. दूषित अम्लीय रक्त के कारण दांत पायरिया से प्रभावित हो जाते हैं. मांसाहार तथा अन्य गरिष्ठ भोज्य पदार्थों का सेवन, पान, गुटखा, तम्बाकू आदि पदार्थों का अत्यधिक मात्रा में सेवन, नाक के बजाए मुंह श्वास लेने का अभ्यास, भोजन को ठीक से चबाकर न खाना, अजीर्ण, कब्ज आदि पायरिया होने के प्रमुख कारण हैं.

पायरिया के लक्षणों का पता इस बात से लगाया जाता है जब दांत ढीले होकर हिलें तो समझ लेना चाहिए कि आपके दांतों में पायरिया हो गया है. साथ ही मसूढ़ों से मवाद और रक्त निकलना भी पायरिया के लक्षण हैं. दांतों पर कड़ी पपड़ियां जम जाना मुंह से दुर्गंध आना भी पायरिया के लक्षण होते हैं. जिससे दांत असमय ही निकल जाते हैं. अगर आप भी अपने दांतों को पायरिया जैसी खतरनाक बीमारी से बचाना चाहते हैं तो दांतों की प्रतिदिन अच्छी तरह से सफाई करनी चाहिए.

भोजन करने के बाद मध्यमा अंगुली से अच्छे मंजन द्वारा दांतों को साफ करना चाहिए. नीम या बबूल की दातौन खूब चबाकर उससे ब्रश बनाकर दांत साफ करना भी अच्छा होता है. इसके अलावा सरसों के तेल में नमक मिलाकर अंगुली से दांतों को इस प्रकार मलें कि मसूढ़ों की अच्‍छी तरह मालिश हो जाए. साथ ही शौच या लघुशंका के समय दांतों को अच्छी तरह से भींचकर बैठें. ऐसा करने से दांत सदैव स्वस्थ रहते हैं.

इसके अलावा रात को सोते समय 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण पानी के साथ तथा दिन में 2 बार अविपत्तिकर चूर्ण का सेवन करना चाहिए. वहीं जामुन की छाल के काढ़े से दिन में कई बार कुल्ले करना भी अच्छा माना जाता है. नीम का तेल मसूढ़ों पर अंगुली से लगाकर कुछ मिनट रहने दें, फिर पानी से दांत साफ कर लें. साथ ही फिटकरी को भूनकर पीस लें. इसका मंजन पायरिया में लाभप्रद है. फिटकरी के पानी का कुल्ला करना भी अच्छा रहता है.

अगर आपके मसूड़ों से खून आता है या फिर दांतों में कमजोरी है तो आप नींबू का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आप नींबू का रस निकालकर उसे अपने मसूड़ों पर लगाएं. कुछ ही दिनों में आपको असर दिखाई देने लगेगा. इसके अलावा अमरूद का सेवन भी अच्छा रहता है.

अमरूद न सिर्फ औषधीय गुणों से युक्त होता है, बल्कि यह आपकी बहुत सी परेशानियों को भी दूर करने में मदद करता है. जब आपको पायरिया की परेशानी होती है तो आप अमरूद के पेड़ के कुछ पत्तों को तोड़कर धो लें और इन पत्तियों को चबाकर थूक दें. अगर आप अमरूद के पत्तों को चबाने में सहज महसूस नहीं करते तो आप ताजा अमरूद को चार टुकड़ों में काट लें. अब इन पर नमक छिड़क कर धीरे-धीरे चबाकर खाएं. ऐसे नियमित करने से आपके दांतों की समस्याएं समाप्त हो जाएंगी.

ये भी पढ़ें-

अगर आप अपने झड़ते हुए बालों से और मुहासों के दाग से हैं परेशान, तो काली कलौंजी के ये फायदें कर देंगे हैरान

अगर आपको भी नींद आने में होती दिक्कत, तो ये स्मार्ट पायजामा करेगा आपकी मदद

दिल को स्वस्थ रखना है तो इन चीजों का रखें ध्यान, वरना पड़ सकता है लेने के देने

First published: 27 November 2019, 14:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी