Home » हेल्थ केयर टिप्स » Ima says fatty liver is the main reason of increasing the numbers of liver cancer disease people in india.
 

लाइफ स्टाइल ने बिगाड़ी लिवर की लाइफ, फैटी लिवर वालों की तादाद में इज़ाफ़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 August 2017, 12:00 IST

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) का कहना है कि वसायुक्त लिवर से पीड़ित लोगों की संख्या में खतरनाक रूप में वृद्धि हो रही है. यदि ठीक से इलाज न हो तो वसायुक्त यकृत से लंबे समय में लिवर कैंसर भी हो सकता है.

उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, भारत में हर पांच में से एक व्यक्ति के जिगर या लिवर में अधिक वसा मौजूद होती है और हर 10 में से एक व्यक्ति में फैटी लिवर रोग होता है. यह चिंता का एक कारण है, क्योंकि ठीक से जांच और इलाज न हो तो वसायुक्त लिवर से लिवर को क्षति पहुंच सकती है और लिवर कैंसर भी हो सकता है.

आईएमए के अनुसार, गैर-एल्कोहल फैटी लिवर रोग (एनएएफएलडी) वाले 20 प्रतिशत लोगों में 20 वर्षो के अंदर लिवर सिरोसिस होने का खतरा रहता है. यह आंकड़ा शराबियों के समान है.

आईएमए के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "एनएएफएलडी सिरोसिस और कभी-कभी तो क्रिप्टोजेनिक सिरोसिस की भी वजह बन सकता है. अधिक वजन वाले लोगों में प्रतिदिन दो ड्रिंक और मोटे लोगों में प्रतिदिन एक ड्रिंक लेने से हिपेटिक इंजरी हो सकती है. एनएफएलडी के चलते सिरोसिस के कारण लिवर कैंसर हो जाता है और ऐसी कंडीशन में अक्सर हृदय रोग से मौत हो जाती है."

डॉ. अग्रवाल ने कहा, "एनएफएफडीएल अल्कोहल की वजह से तो नहीं होता, लेकिन इसकी खपत अधिक होने पर स्थिति जरूर खराब हो सकती है. प्रारंभिक अवस्था में यह रोग खत्म हो सकता है या वापस भी लौट सकता है. एक बार सिरोसिस बढ़ जाए तो लिवर ठीक से काम नहीं कर पाता है. ऐसा होने पर, फ्लुइड रिटेंशन, मांसपेशियों में नुकसान, आंतरिक रक्तस्राव, पीलिया और लिवर की विफलता जैसे लक्षण पैदा हो सकते हैं."

उन्होंने कहा कि एनएएफएलडी के लक्षणों में प्रमुख हैं- थकान, वजन घटना या भूख की कमी, कमजोरी, मितली, सोचने में परेशानी, दर्द, जिगर का बढ़ जाना और गले या बगल में काले रंग के धब्बे.

आईएमए अध्यक्ष ने बताया, "एनएएफएलडी का अक्सर तब पता चल पाता है जब लिवर की कार्य प्रणाली ठीक न पाई जाए, हेपेटाइटिस न होने की पुष्टि हो जाए. हालांकि, लिवर ब्लड टेस्ट सामान्य होने पर भी एनएएफएलडी मौजूद हो सकता है. किसी भी बीमारी को और अधिक गंभीर स्तर तक आगे बढ़ने से रोकने के लिए कुछ हद तक जीवनशैली में परिवर्तन करने की जरूरत होती है."

लिवर फैटी से बचने के उपाय

1- अपना वजन संतुलित रखें. 

2- फलों व सब्जियों का खूब सेवन करें.

3- हर दिन न्यूनतम 30 मिनट शारीरिक व्यायाम करें.

4- शराब का सेवन सीमित करें या इसे लेने से बचें.

5- केवल आवश्यक दवाएं ही लेनी चाहिए और परहेज पर ध्यान दें.

First published: 17 August 2017, 12:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी