Home » हेल्थ केयर टिप्स » India needs 60 tanker blood, such can survive the lives of thousands of people
 

भारत को जरूरत है 60 टैंकर ब्लड की, ऐसे बच सकती है हजारों लोगों की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 June 2018, 12:58 IST

तमाम अभियानों के बाद भी भारत लगातार ब्लड की कमी से जूझ रहा है. आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2016-17 में भारत में 1.9 मिलियन यूनिट रक्त ( 60 टैंकर्स के बराबर ) खून की कमी थी. इंडिया स्पेंड में छपी रिपोर्ट के अनुसार इतना खून 320,000 से अधिक हृदय सर्जरी या 49,000 अंग प्रत्यारोपण में सहायता कर सकता था.

रिपोर्ट के अनुसार यह 2015-16 में 1.1 मिलियन यूनिट या 35 टैंकर रक्त की कमी से ज्यादा है, जब भारत के पास अपने 12 मिलियन लक्ष्य से 9 फीसदी कम रक्त था, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 3 सितंबर, 2016 की रिपोर्ट में बताया है.

वर्ष 2016-17 में भारत ने 11.1 मिलियन यूनिट रक्त एकत्र किए थे. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मानदंडों के आधार पर 13 मिलियन यूनिट लक्ष्य का 85 फीसदी हिस्सा पूरा किया गया है, जैसा कि एक संसदीय प्रश्न पर स्वास्थ्य के जूनियर मंत्री अनुप्रिया पटेल के एक जवाब में बताया गया है.

विश्व रक्तदान दिवस हर साल 14 जून को मनाया जाता है. डब्ल्यूएचओ के अनुसार, हर साल दुनिया भर में लगभग 112 मिलियन लोग रक्त दान करते हैं, जिनमें से 50 फीसदी कम और मध्यम आय वाले देशों में दान किए जाते हैं, जहां दुनिया की लगभग 80 फीसदी आबादी रहती है.

डब्ल्यूएचओ ने सिफारिश की है कि देश की आबादी के 1 फीसदी की रक्त आवश्यकता को इसके रक्त की जरूरतों के एक दायरे अनुमान के रूप में इस्तेमाल किया जाना चाहिए. इसके अनुसार, 23 मार्च, 2018 को लोकसभा को प्रस्तुत आंकड़ों के मुताबिक, भारत में 1.9 मिलियन यूनिट रक्त की कमी थी. एक यूनिट रक्त को 350 मिलीलीटर और 11,000 लीटर रखने का एक मानक मानते हुए यह 60 टैंकर्स के बराबर था.

स्टोरी इनपुट- इंडिया स्पेंड

First published: 24 June 2018, 12:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी