Home » हेल्थ केयर टिप्स » International women day 2018: Cervical cancer causing 74 thousand death of women in an year dangerous desease
 

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस: ये कैैंसर हर साल लेता है 74 हजार भारतीय महिलाओं की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 March 2018, 12:41 IST

भारत में सर्वाइकल कैंसर से हर साल 74 हजार महिलाओं की मौत के मद्देनजर महिलाओं को इस खतरे से जागरूक करने के लिए प्रिवेंटिव हेल्थकेयर एक्सपर्ट और इंडस हेल्थ प्लस प्राइवेट लिमिटेड की निदेशक कंचन नायकवाड़ी ने कुछ उपाय सुझाए हैं.विश्व भर में सर्वाइकल कैंसर की वजह से होने वाली मौतों में से एक तिहाई भारत में होती हैं.

महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर का पता देरी से चलने के कारण यह उनकी मृत्यु का एक प्रमुख कारण बनता जा रहा है.इस बीमारी से सुरक्षित रहने का सबसे प्रभावी तरीका है, समय पर इसकी जांच करवाना.हालांकि, इसके बारे में जानकारी का अभाव रुकावट पैदा करता है.

 

सर्वाइकल कैंसर के कारण गिनाते हुए कंचन नायकवाड़ी ने कहा, "वह कैंसर जो सर्विक्स की लाइनिंग को प्रभावित करता है, उसे सर्वाइकल कैंसर कहा जाता है.शहरी लोगों की तुलना में यह बीमारी ग्रामीणों में ज्यादा होती है.सर्वाइकल कैंसर का सबसे प्रमुख कारण इंसानी पेपिलोमा वायरस या एचपीवी होता है.एचपीवी वायरस के संवाहक के साथ यौन संपर्क में आने से एचपीवी फैलता है."

लक्षणों का जिक्र करते हुए कंचन ने कहा, "योनी से असामान्य रक्तस्राव, सेक्स या फिर टेंपोन इंसर्ट करने के दौरान रक्तस्राव होना, यौन संबंध बनाने के दौरान दर्द महसूस होना, योनी से रक्तमिश्रित अनियिमित डिसचार्ज, मासिकधर्म के बीच में योनी से रक्तस्राव, कमर, पैर या पेडू में दर्द महसूस होना, थकान, वजन में कमी, भूख ना लगना इसके प्रमुख लक्षण हैं."

 

कैंसर मुक्त रहने के लिए हेल्थकेयर एक्सपर्ट ने कहा, "स्त्रीरोग विशेषज्ञ के पास नियमित जांच करवायें, हर तीन साल पर पैप स्मीयर टेस्ट करायें, एचपीवी वायरस से बचाव के लिए लगाए जाने वाले टीकों के बारे में अपने फिजिशियन से बात करें, धू्म्रपान छोड़ दें, अपनी रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए सेहतमंद खाना खाएं और व्यायाम करें."

उन्होंने कहा कि अगर कैंसर की पहचान समय रहते कर ली जाए तो इससे बचाव और इलाज दोनों संभव है.इसके बारे में जानकारी हासिल करें और साथ ही अपने आस-पास की महिलाओं को भी इस जानलेवा बीमारी से अवगत कराएं.

 

First published: 8 March 2018, 12:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी