Home » हेल्थ केयर टिप्स » Know the health benefits of eating Spinach or Palak
 

पालक के सेवन से हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां, खतरे में पड़ सकती है आपकी जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2019, 10:10 IST

हरी सब्जियां खाना हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है. इन सब्जियों में पालक भी शामिल है. वैसे पालक का सेवन हमें कई तरह से फायदेमंद होता है, बावजूद इसके ये आपके भारी नुकसान भी पहुंचा सकता है. बता दें कि पालक में कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं. पालक में कई तरह से किया जाता है. जैसे कि सब्जी बनाने, पराठे बनाने और इसका प्रयोग औषधीय रूप में भी किया जाता है. लेकिन पालक का सेवन अधिक मात्रा में करने से आपको गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है.

बता दें कि पालक फाइबर का एक अच्छा स्रोत है. केवल एक कप पालक के सेवन से ही शरीर को तकरीबन 6 ग्राम फाइबर मिल जाता है. भले ही फाइबर पाचन के लिए जरुरी है लेकिन शरीर को इसका आदि होने में समय लगता है, इसीलिए पालक का अधिक सेवन शरीर के लिए खतरनाक होता है और इससे पेट में दर्द और गैस की शिकायत बनी रहती है. ऐसे में आपको कम मात्रा में पालक का सेवन करना चाहिए.

बता दें कि अगर आप एंटीकायगुलेंट वारफेरिन लेते हैं तो पालक को छोड़ दें. इसमें विटामिन ‘के’ उच्च स्तर होता है, जो दवा के साथ रिएक्शन कर सकता है और आपके यकृत संश्लेषण में परेशाना पैदा हो सकती है. यही नहीं अधिक मात्रा में पालक खाने से आपको एनीमिया की शिकायत हो सकती है. दरअसल, पालक के अधिक सेवन से शरीर खाये हुए खाने से उचित मात्रा में आयरन अवशोषित नहीं कर पाता है. इसी कारण एनीमिया की समस्या बढ़ सकती है.

इसके अलावा पालक के पत्ते का सेवन शरीर को विषाक्त कर सकता है और नुकसान पहुंचा सकता है. दरअसल, सिंचाई के समय प्रयोग किये गए केमिकल वाले खाद पालक के पत्तों को विषाक्त बना देता है जिसके सेवन से शरीर में बीमारियां उत्पन्न हो जाती है और कभी-कभी हालत गंभीर होने पर व्यक्ति की मृत्यु भी हो जाती है.

पत्तागोभी खाने से पड़ सकते हैं आपकी जान को लेने के देने, जानिए क्यों है इसे खाना खतरनाक

इसके अलावा पालक के अत्यधिक सेवन से पेट में गैस होने की समस्या पैदा हो सकती है. दरअसल, जब पालक के साथ ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं जिनमे फाइबर की मात्रा अधिक होती है, तो पेट दर्द और बुखार के साथ-साथ दस्त होने की समस्या भी होने लगती है. जिससे शरीर में पानी की कमी हो जाती है. यही नहीं पालक में प्यूरीन उच्च मात्रा में पायी जाती है. जो शरीर में मेटाबोलिज्म को बढ़ा देती है, जो शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ा देती है.

इसलिए अगर आप गठिया जैसी बीमारी से परेशान हैं तो आपको पालक का सेवन नहीं करना चाहिए. वरना यह आपके जोड़ो में गंभीर दर्द और सूजन पैदा कर सकता है. वहीं पालक का अधिक सेवन शरीर में मिनरल्स के अवशोषण में बाधा पहुंचाते हैं. पालक में ऑक्सेलिक एसिड होता है जो विभिन्न कैल्शियम, मैग्नीशियम, जस्ते आदि जैसे कई आवश्यक खनिजों से बंधा होता है जिसके कारण शरीर पूरी तरह से मिनिरल्स अवशोषित नहीं कर पाता और जिसके कारण शरीर में खनिज की कमी से होने वाले कई रोग उत्पन्न हो जाते हैं.

वहीं पालक में बड़ी मात्रा में प्यूरिन पायी जाती है. इसमें कार्बनिक यौगिक होते हैं जब यह हमारे शरीर में अधिक मात्रा में पहुंच जाते है तो यह यूरिक परिवर्तित हो जाता है. ऐसा करने से किडनी में कैल्सियम की मात्रा बढ़ जाती है, जिसके कारण किडनी में छोटे -छोटे टुकड़े एकत्रित हो जाते हैं और यह किडनी के स्टोन में बदल जाते हैं. पालक के सेवन से आपको खतरना एजर्जी की समस्या भी हो सकती है. क्योंकि इसमें हिस्टामइन होता है जो शरीर में एलर्जी पैदा करता है.

इन बीमारियों के लिए काल है नीम की पत्तियों का सुबह खाली पेट सेवन

First published: 7 October 2019, 13:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी