Home » हेल्थ केयर टिप्स » Maximum using of Mobile and computer it may be many serious diseases
 

घंटों मोबाइल और कम्प्यूटर का इस्तेमाल करने से हो सकती है आपको ये खतरनाक बीमारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 May 2019, 12:32 IST

आज के दौर में हर कोई कई-कई घंटे मोबाइल फोन या कम्प्यूटर का इस्तेमाल करता है, लेकिन वो इस बात से बेखबर हैं कि ये उनके लिए ये कितना खतरनाक है. बता दें कि अगर आप मोबाइल फोन या कम्प्यूटर का ज्यादा  इस्तेमाल करते हैं तो ये कई तरह की बीमारियों का कारण बन सकता है. इनमें टेक्स्ट नेक नाम की बीमारी तो लगातार गर्दन को झुकाकर काम करने से होती है यानि ये बीमारी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का इस्तेमाल करने से होती है. क्योंकि लंबे समय तक गर्दन का मूवमेंट ना होने की वजह से ये परेशानी हो सकती है.

ऑस्ट्रेलियन स्पाइनल रिसर्च फाउंडेशन के पूर्व गवर्नर डॉ जेम्स कार्टर ने इसे लेकर एक रिपोर्ट पेश की. जिसमें बताया गया कि टेक्स्ट नेक बीमारी से स्पाइन यानि रीढ़ की हड्डी 4 सेमी तक झुक सकती है. इसके अलावा आपकी सर्वाइकल स्पाइन यानि की गर्दन की हड्डी को स्थाई रूप से नुकसान हो सकता है. जिसकी वजह से आपकी गर्दन में दर्द होने की समस्या बढ़ सकती है जो जिंदगी भर के लिए हो सकती है.

डॉ. जेम्स की इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 14 से 44 साल की उम्र के करीब 79 फीसदी लोग जागते वक्त 2 घंटे छोड़कर हर समय मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं. बता दें कि टेक्स्ट नेक एक ऐसी बीमारी है जिसमें गर्दन आगे की ओर झुक जाती है. इसमें गर्दन की हडि्डयों में बदलाव आने से उनके डैमेज होने का भी खतरा बढ़ जाता है.

रिपोर्ट में बताया गया है कि इस बीमारी की वजह से हड्डियां घिसने लगती हैं और रोगी को सिर, गर्दन, कंधे के अलावा पीठ में दर्द होने लगता है जो ठीक नहीं होता. साथ ही इन अंगों की मसल्स भी अकड़ने लगती हैं. इस बीमारी के होने से रोगी के पीठ के ऊपर के हिस्से में तेज दर्द होने लगता है और वहां की मसल्स में स्ट्रेस आ जाता है. यही नहीं इस बीमारी में रोगी को इस बात का पता ही नहीं चलता है कि चैट करने या लैपटॉप पर मूवी देखते समय गर्दन को झुकाए रखने से उसकी गर्दन की मसल्स को नुकसान हो रहा है.

बड़े काम की चीज है ककड़ी, डायबिटीज और पाचन समेत इन बीमारियों को करती है दूर

कैसे करें उपचार

अगर आपको भी इस तरह की परेशानी का पते चले तो तुरंत एहतयात बरतें. साथ ही जब भी मोबाइल फोन, लैपटॉप और टैबलेट को अपनी आंखों के सामने ही रखें. यही नहीं इस दौरान शरीर में दर्द होने की स्थिति में गर्दन की पोजीशन बदलते रहेंसाथ ही बीच-बीच में ब्रेक लेना भी आपके लिए फायदेमंद है. कम्प्यूटर या लैपटॉप पर काम करते समय टेबल और कुर्सी की ऊंचाई ठीक रखें. जिससे कमर सीधी रहे. आंकड़े बताते हैं कि भारत में औसतन हर व्यक्ति मोबाइल पर तीन घंटे का समय बिताता है.

ई-सिगरेट से ज्यादा खतरनाक होती है सामान्य सिगरेट, कैंसर को दे रही है बढ़ावा, शोध में हुआ खुलासा

First published: 5 May 2019, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी