Home » हेल्थ केयर टिप्स » Oxytocin will no longer be able to sell private companies, the government has stopped the fear
 

अब ऑक्सीटोसिन नहीं बेच पाएंगी निजी कंपनियां, सरकार ने इस डर से लगायी रोक

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 April 2018, 17:21 IST

सरकार ने ऑक्सीटोसिन के गलत इस्तेमाल रोक लगाने फैसला किया है. CNBC की रिपोर्ट के अनुसार सरकार का कहना है कि अब कोई भी निजी कंपनी इसे नहीं बना सकेगी. सिर्फ सरकारी कंपनियों को ही इसके उत्पादन का अधिकार होगा.

ऑक्सीटोसिन का इस्तेमाल अकसर पशुओं में दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए होता है. इसके अलावा खीरा, तरबूज, खरबूज जैसी फल-सब्जियों को जल्द पकाने के लिए या बड़ा करने के लिए होता है.

 

ऑक्सीटोसिन का इस्तेमाल ड्रग के तौर पर ऑभी किया जा रहा था. इसके कारण कैंसर, हॉर्मोनल इम्बैलेंस जैसी कई गंभीर बीमारियों की संभावनाएं रहती हैं.

देश में करीब 130 कंपनियां ऑक्सीटोसिन का उत्पादन करती है और ऑक्सीटोसिन का कुल कारोबार 50 से 70 करोड़ रुपये से ज्यादा का है. इसका उत्पादन फाइजर, नोवार्टिस, कैडिला, वॉकहॉर्ड, सन फार्मा, इंटास फार्मा, जायडस कैडिला जैसी बड़ी फार्मा कंपनियां करती हैं.

First published: 29 April 2018, 17:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी