Home » हेल्थ केयर टिप्स » Pomegranate is one of the most loved natural goodie but it cause some side effects
 

इस बीमारी से हैं ग्रसित तो भूलकर भी न खाएं अनार, नहीं माने तो सांस रुकने से हो सकती है मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 October 2019, 14:10 IST

अनार काफी स्वादिष्ट और लाभदायक फल के रूप में जाना जाता है. डॉक्टर भी बीमारी में इसके सेवन को फायदेमंद बताते हैं. अनार में एंटीऑक्सीडेंट का गुण पर्याप्त मात्रा में होता है. इस कारण से इसे ह्रदय की सेहत के लिए बहुत ही अच्छा माना गया है.

अनार खाने से अच्छे कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है तथा हानिकारक ऑक्सीडाइज लिपिट का असर कम होता है. इस कारण एथेरोस्क्लेरोसिस होने की आशंका काफी हद तक कम हो जाती है. अनार में पाए जाने वाले शुगर से डायबिटीज पर किसी भी प्रकार का असर नहीं पड़ता. यहां तक कि अनार खाने से डायबिटीज के कारण होने वाले एथेरोस्क्लेरोसिस की आशंका से बचा जा सकता है.

सांस लेने में हो सकती है दिक्कत

अनार गुणों का खजाना है. हर लिहाज से यह स्वास्थ्यवर्धक है. तय मात्रा में सेवन करने से यह काफी लाभकारी साबित हो सकता है. लेकिन कुछ विशेष परिस्थितियों में अनार का सेवन हानिकारक साबित हो सकता है. जिन्हें कब्ज, खांसी या इंफ्लुएंजा है, उन्हें बिल्कुल भी अनार नहीं देना चाहिए.

अनार खाने से कुछ लोगों को एलर्जी हो सकती है. इसलिए उन्हें कभी भी अनार नहीं खाना चाहिए. इससे शरीर पर रैशेज, चेहरे पर सूजन, सांस लेने में कठिनाई हो सकती है. कई बार सांस लेने में इतनी कठिनाई हो सकती है कि इससे इंसान की सांस रुक सकती है.

 

अनार का जूस पीने से कम हो सकता है रक्तचाप

बता दें कि अनार में अत्यधिक मात्रा में कैलोरी होती है. यदि आप कम कैलोरी वाली डाइट ले रहे हैं, तो बिल्कुल भी अनार का सेवन न करें. यदि आपने ज्यादा मात्रा में अनार खा लिया तो आपके पेट में गैस बन सकती है और आप एसिडिटी के शिकार हो सकते हैं. अनार को एसिडिक खाद्य पदार्थों की श्रेणी में रखा गया है. इसके सेवन से आपकी छाती में जलन, एसिडिटी और मुंह व पेट में अल्सर जैसी समस्या हो सकती है.

इसके अलावा कुछ दवाइयों के साथ अनार का सेवन काफी नुकसानदायक होता है. रक्तचाप की दवा लेने वाले लोगों को अनार का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर पूछ लेना चाहिए. वहीं कम रक्तचाप वालों को अनार का जूस पीने से बचना चाहिए. इसे पीने से रक्तचाप और भी कम हो सकता है.

नुसरत जहां ने इस्लामी धर्मगुरुओं को दिया करारा जवाब, 'सिंदूर खेला' में हिस्सा लेकर कर दी बोलती बंद

शी जिनपिंग ने क्यों चुना महाबलीपुरम को मीटिंग प्वाइंट, चीन से 1700 साल पुराना है रिश्ता

First published: 11 October 2019, 17:10 IST
 
अगली कहानी