Home » हेल्थ केयर टिप्स » reduce blood sugar level without medicine by home tips, control diabetes, control sugar level, home tips, health news, diet
 

डाइबिटीज के मरीजों को ये घरेलू टिप्स अपनाने के बाद नहीं खानी पड़ेंगी दवाईयां

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 January 2018, 16:39 IST

आधुनिक जीवन शैली की वजह से लोगों में तमाम बीमारियां फैल रही हैं. इनमें से एक है डाइबिटीज भी मुख्य बीमारी बनती जा रही हैं. आंकड़ों के मुताबिक दुनियाभर में करीब 35 करोड़ लोगों इस बीमारी से जूझ रहे हैं.

डाइबिटीज के मामले में भारत चीन के बाद दूसरे नंबर पर हैं. डाइबिटीज या मधुमेह एक ऐसी बीमारी है कि इसका अगर समय रहते इलाज न कराया जाए तो मरीज की जल्द मौत हो सकती हैंआज हम आपको बताएंगे कुछ ऐसे जरूरी टिप्स जो डायबिटीज को खत्म करने में आपके लिए बहुत मददगार साबित होंगे.

 

अपनी जीवन शैली में कुछ बदलाव कर डाइबिटीज की समस्या से निजात पाई जा सकती है. इसके लिए आपको ये उपाय करना लाभदायक हो सकता हैं.

फैट कम करना है जरूरी

फैट हमारे शरीर को बेडौल कर देता है. इसके साथ ही ये शरीर में प्रोटीन को ग्रहण करने की क्षमता को कम करता है. जिसकी वजह से शरीर में इन्सुलिन की कमी हो जाती है और हमारे शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है.

डाइट में कम करें कार्बोहाइड्रेट का यूज

डाइबिटीज के मरीजों को कार्बोहाइड्रेट का इस्तेमाल कम ही करना चाहिए. ब्लड शुगर के मरीजों के लिए कार्बोहाइड्रेट प्रयोग ठीक नहीं माना जाता. इसलिए ऐसे लोगों को चावल, पास्ता, पॉपकॉर्न, राइस पफ और वाइट फ्लौर के इस्तेमाल से बचना चाहिए. बतादें कि मधुमेह के दौरान शरीर कार्बोहाइड्रेट्स को पचा नहीं पता है. इस वजह से शरीर में शुगर तेजी से जमा होने लगता है.

फाइबर युक्त आहार का करना चाहिए प्रयोग

ब्लड शुगर के मरीजों को फाइबर युक्त आहार का इस्तेमाल करना चाहिए. क्योंकि फाइबर युक्त आहार हमारे ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है. अवशोषित फाइबर ब्लड में शुगर की अधिक मात्रा को अब्जर्ब कर लेता है और इन्सुलिन को नार्मल करके मधुमेह को नियंत्रित करता है.

डाइट में करें प्रोटीन शामिल

डाइबिटीज से पीड़ित मरीजों को अपनी डाइट में लाल मीट शामिल करना चाहिए. उच्‍च प्रोटीन डाइट खाने से शरीर में ताकत बनी रहती है क्‍योंकि मधुमेह रोगियों को कार्बोहाइड्रेड और हाई फैट से दूर रहने के लिए कहा गया है.

रोजाना करें एक्‍सरसाइज

ब्लड शुगर से पीड़ित मरीजों को हर रोज योग प्राणायाम का नियमित अभ्यास करना, सुबह शाम वॉक करना मधुमेह रोग में शुगर कंट्रोल करने के लिए बहुत लाभदायक है साथ ही मोटापा नियंत्रण में रहता है जो कि डायबिटीज का महत्वपूर्ण कारण है.

ये भी पढ़ें- रोजाना बढ़ रहे पेट्रोल डीजल के दाम, सरकार भर रही खजाना

ना लें तनाव

मधुमेह के रोगियों में तनाव की अधिकता हो जाती है. डाइबिटीज के मरीजों को तनाव नहीं करना चाहिए. साथ ही तनाव से बचने की पूरी कोशिश करें. तनाव कम करने के लिए योगा, प्राणायाम, ध्यान तथा सुबह शाम घूमना बेहतर माना जाता है.

फलों का करें इस्तेमाल

डाइबिटीज के मरीजों को ताजे फलों का इस्तेमाल करना चाहिए. फलों में नेचुरल सुगर पाया जाता हैं, फल खाने विटामिंस और मिनरल्‍स की कमी को पूरा करते हैं और यह मधुमेह को कंट्रोल करने में भी मदद करते हैं.

कम करें शराब का सेवन

मधुमेह के रोगियों को शराब ना पीने की सलाह दी जाती है. अगर डायबिटीज का कोई रोगी शराब पीता है तो उसे अपनी शराब पीने की आदत को थोड़ा सीमित कर देना चाहिए.

 स्‍मोकिंग को कहें अलविदा

ब्लड शुगर के मरीजों को धूम्रपान करने से बचना चाहिए. क्योंकि सिगरेट में मौजूद निकोटिन इंसुलिन की मात्रा बढ़ा देती है. जिसकी वजह से ब्‍लड शुगर अनियंत्रित हो जाती है. इस वजह से दिल का खतरा और किडनी प्रॉब्‍लम होने की सम्‍भावना बढ़ जाती है.

 जितनी भूख, उतना खाएं 

डायबिटीज के रोगियों को ओवरईटिंग से बचना चाहिए. इसलिए कोशिश करना चाहिए कि जितनी भूख हो उतना ही खाएं, भूख से अधिक खाने के कारण भी डायबिटीज बढ़ने का खतरा रहता है. इसलिए मधुमेह के रोगी ओवरईटिंग न करें, और न ही फास्‍ट फूड और जंक फूड का सेवन करें. इसमें कोलेस्‍ट्रॉल होता है जिससे मुधमेह रोगियों की स्थिति पहले से अधिक खराब हो सकती है.

First published: 30 January 2018, 16:39 IST
 
अगली कहानी