Home » हेल्थ केयर टिप्स » Rice in not healthy for your health it produce arsenic poisen in your stomach
 

चावल के साथ रोजाना जहर खा रहे हैं आप, अगर नहीं संभले तो कैंसर से हो सकती है मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 October 2019, 18:46 IST

आम तौर पर लोग चावल खाना ज्यादा पसंद करते हैं. कई लोग ऐसे हैं जो बिना चावल खाए एक दिन भी नहीं रह पाते. अगर आप भी इन्हीं लोगों में से हैं तो आपको तुरंत सतर्क हो जाने की जरूरत हैं. हाल ही में हुई एक रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि रोजाना चावल खाने वाले लोगों चावल के साथ जहर खा रहे है जो उनके लिए काफी हानीकारक है. ज्यादा चावल खाने वाले व्यक्ति अपने शरीर में 'आर्सेनिक' (Arsenic) नाम के जहरीले पदार्थ को भेज रहे हैं.

चिंता का विषय ये है कि चावल में आर्सेनिक जहर की मात्रा इतनी ज्यादा होती है कि इसे आप अनदेखा नहीं कर सकते. रिसर्च में पता चला है कि आर्सेनिक के शरीर में पहुंचने के बाद ये जहरीला रसायन कैंसर, दिल संबंधी बीमारी, डायबिटीज और कई गंभीर बीमारियों को दावत देता है. 

मिट्टी में पाया जाता है आर्सेनिक

आर्सेनिक मिट्टी में पाया जाने वाला रसायन है. इसका थोड़ा असर मिट्टी से उगने वाली खाने की चीजों में आ जाता है, हालांकि इसका स्तर बहुत कम होता है, इससे सेहत को नुकसान नहीं पहुंचता. लेकिन चावल की फसल में पानी का अधिक इस्तेमाल होता है.

पानी में ज्यादातर समय डूबे होने के कारण चावल की फसल मिट्टी में घुले आर्सेनिक रसायन को सोख लेता है. इसलिए अन्य फसलों की तुलना में चावल में 10 से 20 फीसदी ज्यादा आर्सेनिक रसायान पाया जाता है.

 

ज्यादा चावल खाने से हो जाएगा कैंसर

आर्सेनिक के जहरीले रसायन से आपको कितना खतरा होगा ये बात इस पर निर्भर करता है कि आप एक दिन में कितना चावल खाते हैं. यदि आप हफ्ते में एक या दो बार चावल खाते हैं, तो इससे आपको ज्यादा नुकसान नहीं होगा, हालांकि छोटे बच्चों को चावल से हमेशा दूर रखना चाहिए.

वहीं चावल खाना बहुत ही ज्यादा पसंद करते हैं, तो भी आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है. आप चाहें तो चावल से आर्सेनिक रसायन को कम कर सकते हैं. चावल को ज्यादा पानी में डालकर पकाते हैं, तो इससे आर्सेनिक रसायन कम हो जाता है.

वजन घटाने के लिए ये है दुनिया का सबसे ताकतवर फल, खाते ही आइसक्रीम जैसी पिघलने लगेगी चर्बी

ये है दुनिया की सबसे ताकतवर सब्जी, इसको खाने बाद नहीं होगी कभी ये खतरनाक बीमारी

First published: 27 September 2019, 19:10 IST
 
अगली कहानी