Home » हेल्थ केयर टिप्स » Risk of cancer and tumor from colored vegetables
 

इन हरी सब्जियों से बना ले कोसों की दूरी, वरना हो जाएंगे ट्यूमर और कैंसर के मरीज

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2019, 10:21 IST

जब हम बाजार में सब्जी लेने जाते हैं तो बहुत कन्फूज होते हैं कि कौन सी सब्जियां ले कौन सी नहीं. इस दौरान हमें बाजार में कई चटकीले  रंग में चमकते फल औऱ सब्जियां भी नजर आती है. जो देखने में वाकई खूबसूरत लगते हैं. लेकिन इस तरह की सब्जियों से कोसों दूरी बनानी चाहिए. क्योंकि सब्जियों और फलों को बेचने के लिए उनको जिन रंगों से रंगा जा रहा है वो सेहत ने लिए बहुत खतरनाक होता है. जिससे हमे किडनी, लिवर, और दिल को गहरा नुकसान पहुंच सकता है.

चटकीले रंग में चमकते फल और सब्जियां देखकर महंगे लग सकते हैं लेकिन यह सेहत के लिए खतरनाक हो सकते हैं। सब्जियों और फलों को बेचने के लिए उनको जिन रंगों से रंगा जा रहा है, वह ट्यूमर से लेकर कैंसर तक दे सकते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि यह रंग और रसायन हमारे रक्त में रह जाते हैं। शरीर से बाहर नहीं निकलते। इसके कारण लिवर, किडनी और हृदय को भी गहरा नुकसान पहुंचता है। 

 

दरअसल ज्यादा हरे रंग की सब्जियों में रंग की मिलावट होती है. ये मेलेकाइट ग्रीन नामक रसायन होता है. ये आपके खून में जमा होता रहता है. एक सीमा के बाद ये कोशिकाओं को विकृत करता रहता है. जिससे आपके शरीर में कैंसर और ट्यूमर होने की संभावना बढ़ जाती है. वहीं लाल रंग रोडामीन और पीले में ऑरामीन डाई का प्रयोग होता है.

 

ये तीनों रसायन शरीर के लिए हानिकारक है. इसको लेकर एफएसडीए यानी खाध सुरक्षा के औषधि प्रशासन ने हाल ही में शहर के सभी सब्जी मंडियों में विक्रेताओं को इन हानिकारक रंगो की जानकारी दी. वहीं तकरीबन 27 नमूने लेकर जांच को भेजा गया है.

सोने से पहले उबालकर खाएं केला, कुछ ही दिन में दिखाई देगा चमत्कार

First published: 5 October 2019, 16:10 IST
 
अगली कहानी