Home » हेल्थ केयर टिप्स » Side effects of Hot Tea, It can cause skeletal fluorosis in bones
 

गर्मी में गर्म चाय पीना है जानलेवा, भीतर से खोखले हो रहे ऐसे लोग, हड्डियों पर पड़ रहा बुरा असर

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 June 2019, 16:10 IST

अगर आप चाय पीने के आदी हैं और सुबह-सुबह उठकर गर्म चाय पीते हैं तो आपको सावधान रहने की जरूरत है. गर्मी में गर्म चाय आपके लिए जानलेवा साबित हो सकती है. डॉक्टरों के अनुसार, सुबह उठकर सबसे पहले चाय से अपने दिन की शुरूआत करने वाले लोगों की हड्डियों में गंभीर बीमारी हो सकती है.

भारत में लगभग 90 परसेंट लोग रोजाना सुबह नाश्ते से पहले खाली पेट चाय पीते हैं. उनका मानना है कि बिना चाय की चुस्की के उनके दिन की शुरूआत अच्छी नहीं होगी. लेकिन सुबह की चाय की चुस्की उनके लिए जानलेवा साबित हो सकती है. इससे बहुत ही गंभीर बिमारियों के चपेट में आने का खतरा रहता है. 

 

गर्म चाय से शरीर को होता है नुकसान

ज्यादा गर्म चाय पीने से आपके शरीर को तो नुकसान होता ही है. इसके अलावा कई और भी बिमारियों को गर्म चाय न्योता देती है. दरअसल, विदेशों का मौसम ठंडा होता है इसलिए वहां के लोगों को गर्म चाय नुकसान नहीं करती लेकिन भारत का मौसम गर्म रहता है. गर्मी में भारत के ज्यादातर शहरों का तापमान 40 डिग्री के आसपास होता है. जो लोग यहां गर्म चाय पीते है तो उन्हें ये बहुत नुकसान करती है.

 

हड्डियां हो जाती हैं खोखली

देखा जाता है कि चाय पीने की आदत तलब में बदल जाती है. आपके चाय पीने तलब कई गंभीर बीमारियों को न्यौता दे सकती है. खाली पेट चाय पीने से और लंबे समय तक रोज कई कप चाय पीने से स्केलेटल फ्लोरोसिस नामक बीमारी होती है. यह बीमारी हड्डियों को अंदर ही अंदर खोखला बना देती है. 

लंबे समय बाद हड्डियों को होता है नुकसान

ज्यादा गर्म चाय पीने से हड्डियों को लंबे समय बाद नुकसान नजर आता है. दूध और चीनी से बनी चाय का बुरा प्रभाव शरीर पर पड़ता है. खासकर खाली पेट अगर आप इसे भूख मिटाने के लिए पी रहे हों तो. दूध और चीनी से बनी चाय की अधिकतम मात्रा अल्सर और हाइपर एसिडिटी का कारण भी होती है. हालांकि ग्रीन-टी, लेमन टी कुछ मायनों में फायदेमंद होती है.

मोदी राज में बेरोजगारों के जल्द आ सकते हैं अच्छे दिन, देश भर में रोजगार सर्वे कराएगी सरकार

पाकिस्तानी एक्ट्रेस ने IAF का एयरक्राफ्ट गायब होने पर PM मोदी का उड़ाया मजाक, लोग बोले- जिस थाली में..

First published: 5 June 2019, 16:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी