Home » हेल्थ केयर टिप्स » special for exam student, if you want to increase your Memory capacity, do this
 

परीक्षार्थियों के लिए खास: बढ़ाना चाहते हैंं याद करने की क्षमता और करना चाहते हैं टॉप, तो करें ये काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 February 2018, 14:32 IST

ज्यादातर आपने देखा होगा कि याददाश्त बढ़ाने के लिए लोग बादाम खाने की सलाह देते हैं या फिर ज्यादा से ज्यादा याद करने की आदत डालने का लोग सुझाव देते हैं. लेकिन आज हम आपको बताते हैं कि क्या नुस्खा अपनाकर आप अपनी याददाश्त बढ़ा सकते हैं और चीजों को याद करके सफल हो सकते हैं.

कई बार रट लगाना छोड़कर शांत बैठने से भी याददाश्त बढ़ सकती है. कोशिश करें कि आप अपने कमरे की रोशनी कम कर दें. आराम से बस लेटे रहें. आंखें बंद कर लें और ख़ुद को रिलैक्स महसूस कराएं. ऐसा करने से भी कई बार आप देखेंगे कि आपने जो कुछ याद करने की कोशिश की है, वो आपको अच्छे से याद रह जाता है.

इस दौरान आपका ख़ाली दिमाग, याददाश्त के ख़ज़ाने को भरता है. आपको इसके लिए आपके दिमाग़ को पूरा सुकून देना होगा, ताकि वो ख़ुद को रिचार्ज कर सके. सुकून के पलों में ई-मेल चेक करना या सोशल मीडिया को खंगालना हमारे दिमाग़ के सुकून में ख़लल डालता है.

जिनकी याददाश्त कमज़ोर है, उनके लिए ये नुस्खा बेहद कारगर हो सकता है. हम सब के अंदर ये क्षमता होती है कि हम शांत रहकर, ख़ाली बैठे या लेटे रहकर अपनी याददाश्त मज़बूत कर सकते हैं.

इसके अलावा मोटापा भी याददाश्त कमज़ोर करता है. वैज्ञानिक रिसर्च साबित करती है कि मोटापे और याददाश्त में दो-तरफ़ा रिश्ता होता है. दोनों आपस में एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं.

जिनकी याददाश्त कमज़ोर है, उनके लिए ये नुस्खा बेहद कारगर हो सकता है. हम सब के अंदर ये क्षमता होती है कि हम शांत रहकर, ख़ाली बैठे या लेटे रहकर अपनी याददाश्त मज़बूत कर सकते हैं.

पढ़ें- शोधः पिता के तनाव से बच्चों के दिमाग पर पड़ता है असर

इसके अलावा मोटापा भी याददाश्त कमज़ोर करता है. वैज्ञानिक रिसर्च साबित करती है कि मोटापे और याददाश्त में दो-तरफ़ा रिश्ता होता है. दोनों आपस में एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं.

First published: 20 February 2018, 14:32 IST
 
अगली कहानी