Home » हेल्थ केयर टिप्स » Swine Flu Patients Increasingly Due to Pollution
 

प्रदूषण के कारण तेजी से बढ़ रही है स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 February 2019, 12:13 IST

स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या इस साल पिछले साल की तुलना में दिल्ली-एनसीआर में लगातार तेजी बढ़ती जा रही है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, 1 जनवरी से अबतक स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या 900 हो चुकी है. वहीं, पिछले साल स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या सिर्फ 205 थी. इस बारे में एम्स, सफदरजंग और गंगाराम अस्पताल के डॉक्टरों ने संभावना जताई है कि स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या बढ़ने का कारण प्रदूषण और कम तापमान हो सकता है.

एम्स के मेडिसन विभाग के प्रो. नवल विक्रम ने चीन में पिछले साल हुए शोध को हवाला देते हुए बताया, "पीएम 2.5 के साथ इन्फ्लुएंजा ए वायरस के कुछ समय के लिए संपर्क में आने पर शरीर के अंदर इस वायरस के लंबे समय तक जीवित रहने की संभावना बढ़ जाती है. साथ ही प्रदूषण अधिक होने से पीएम 2.5 के अधिक समय तक संपर्क में रहने पर प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है. इससे स्वाइन फ्लू या कोई भी मौसमी फ्लू से लोग गंभीर रूप से बीमार हो सकते हैं."

वहीं, प्रो. विक्रम ने हांगकांग में हुए एक और रिसर्च को हवाला देते हुए बताया, "हवा में नाइट्रस ऑक्साइड, ओजोन और पीएम10 की मात्रा बढ़ने पर निमोनिया, अस्थमा के साथ इन्फ्लुएंजा (फ्लू) के मरीजों की संख्या भी बढ़ जाती है."

पढ़ें ये भी- PUBG गेम बना छात्रों का दुश्मन, 90 फीसदी ने छोड़ा स्कूल

 

इसी बात को लेकर Infectious diseases के स्पेशलिस्ट और एम्स के प्रोफेसर आशुतोष विश्वास का भी यदि मानना है कि प्रदूषण के कारण स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या बढ़ रही है.उनके मुताबिक, जब संक्रमित व्यक्ति छींकता है या फिर खांसता है, तो पानी की छोटी-छोटी बूंदों के रूप में वायरस हवा में मौजूद पार्टिकुलेट मैटर के साथ मिल जाता है और तापमान कम होने पर यह पार्टिकुलेट मैटर कणों के साथ लंबे समय तक एक स्थान पर हवा में जीवित रह सकता है.

वहीं, गंगाराम अस्पताल के वाइस चेयरमैन डॉ. अतुल कक्कर ने बताया, "अधिक प्रदूषण वाले क्षेत्रों में लोगों के रहने पर प्रतिरोधक क्षमता कम होने पर स्वाइन फ्लू से लोग बुरी तरह बीमार हो सकते हैं. इस बार दिल्ली में स्वाइन फ्लू को लेकर जागरूकता बढ़ी है और लोग इसके लक्षण होने पर तुरंत अस्पताल पहुंचकर जांच करा रहे हैं. दिल्ली के अस्पतालों में स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या बढ़ने की यह भी वजह हो सकती है."

 

2017 में 4 हजारे से अधिक थे स्वाइन फ्लू के मरीज

बता दें कि पिछले साल भले ही स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या कम थी, लेकिन वर्ष 2017 में स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या चार हजार से अधिक थी. चलिए जानते हैं 2012 से अब तक कितने व्यक्ति हो चुके हैं स्वाइन फ्लू के शिकार-

2012 - 78
2013 - 1511
2014 - 38
2015 - 4300
2016 - 193
2017 - 2835
2018 - 205

First published: 5 February 2019, 12:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी