Home » हेल्थ केयर टिप्स » Tips to Make Winter Easier on Your Asthma health tips in hindi
 

अस्थमा के मरीजों के लिए ख़तरे की घंटी है सर्दी, जानें कैसे रखें अपना ख्याल

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 January 2017, 16:13 IST

सर्दी में दिल के मरीजों के साथ-साथ अस्थमा के मरीजों को परेशानी बहुत बढ़ जाती है. डाॅक्टरों के मुताबिक इस मौसम में श्वास नलियां सिकुड़ने लगती हैं और कफ भी ज्यादा बनता है. इसके साथ ठंडे माहौल के कारण धुआं और वातावरण में घुले तत्व पूरी तरह आसमान में ऊपर नहीं जा पाते जो एलर्गन का काम करते हैं. इसलिए अस्थमा की समस्या सर्दी में ज्यादा बढ़ जाती है. एेसे में जरूरी है खुद का ख्याल रखना. साथ ही दवाआें पर निर्भर रहने के साथ घरेलू उपचार करें. 

इन बातों का रखें ध्यान 

1. इससे बचाव के लिए घर को धूल और धुएं से मुक्त रखें. 

2. अपना इन्हेलर हमेशा पास रखें और स्टेरॉयड का प्रयोग डॉक्टर की सलाह पर ही करें. 

3. अपने शरीर को जितना गर्म रख सकते हैं, रखने की कोशि‍श करें. 

4. ठंड से बचने के लिए अधिकतर लोग आग या रूमहीटर के पास बैठते हैं जो ठीक नहीं, ऊनी कपड़े अधिक गरम होने पर उस के रेशे जल जाते हैं और इस से निकलने वाला धुआं अस्थमा के रोगियों के लिए खतरनाक होता है.

5. सर्दी में भी व्यायाम अवश्य करें, लेकिन पहले अपने-आप को वार्मअप करना न भूलें.

6. ठंड में खाने में तरल पदार्थ का सेवन अधिक करें, घर पर बना हुआ, कम वसायुक्त खाना खाएं. खाने में ताजे फल, सब्जियां अधिक लें. खट्टे पदार्थ या नींबू खाने से कभी किसी का अस्थमा नहीं बढ़ता, जिनको एलर्जी है वे न खाएं.

7.  कपड़े हमेशा साफ-सुथरे और धुले हुए ही पहनें. पहले सूती कपड़े पहनें, उनके ऊपर ऊनी कपड़े पहनें.

घरेलू उपचार 

1. लहसुन दमा के इलाज में काफी कारगर साबित होता है. 30 मिली दूध में लहसुन की पांच कलियां उबालें और इस मिश्रण का हर रोज सेवन करने से शुरुआती अवस्था में काफी फायदा मिलता है. 

2. अदरक की गरम चाय में लहसुन की दो पिसी कलियां मिलाकर पीने से भी अस्थमा नियंत्रित रहता है. सुबह और शाम इस चाय का सेवन करने से मरीज को फायदा होता है. 

3. पानी में अजवाइन मिलाकर इसे उबालें और पानी से उठती भाप लें, यह घरेलू उपाय काफी फायदेमंद होता है.

4. इसके अलावा आप 4-5 लौंग लें और 125 मिली पानी में 5 मिनट तक उबालें. इस मिश्रण को छानकर इसमें एक चम्मच शुद्ध शहद मिलाएं और गरमा-गरम पी लें.

5. हर रोज दो से तीन बार यह काढ़ा बनाकर पीने से मरीज को निश्चित रूप से लाभ होता है. 

First published: 3 January 2017, 16:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी