Home » हेल्थ केयर टिप्स » tulsi Benefits, know 10 Facts About Holy Basil tulsi health news
 

तुलसी के पत्तों से होने वाले 10 चमत्कारी फायदे

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 November 2017, 13:02 IST

प्राचीन भारतीय समाज में तुलसी को पवित्र मानते हुए सुबह-शाम जल चढ़ाने के साथ ही दीपक जलाकर पूजन की परंपरा रही है.

तुलसी सांस की बीमारी, मुंह के रोगों, बुखार, दमा, फेफड़ों की बीमारी, हृदय रोग तथा तनाव से छुटकारा पाने में रामबाण साबित होती है. तुलसी शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में, वायरल संक्रमण, बालों तथा त्वचा के रोगों में भी कारगर है.

पतंजलि आयुर्वेद के आचार्य बालकृष्ण की मानें तो तुलसी अनेक असाध्य तथा जीवन शैली से जुड़े रोगों का अचूक इलाज है. कई असाध्य रोगों में तुलसी के प्रयोग से सस्ता तथा सुलभ तरीके से उपचार किया जा सकता है. यहां उन्होंने बताए बीमारियों और उसमें तुलसी के प्रयोग के तरीके.

औषधीय प्रयोग विधि: 

1. तुलसी की मंजरी के 1-2 ग्राम चूर्ण को शहद के साथ खाने से शिरो रोग में लाभ होता है.

2. तुलसी के 5 पत्तों को प्रतिदिन पानी के साथ निगलने से बुद्धि, मेधा और मस्तिष्क की शक्ति बढ़ती है.

3. तुलसी तेल को 1-2 बूंद नाक में टपकाने से पुराना सिरदर्द तथा अन्य सिर संबंधी रोग दूर होते हैं.

4. तुलसी के तेल को चेहरे पर लगाने से चेहरे का रंग साफ हो जाता है.

5. तुलसी के पत्ते, अरंडी की कोपलें और चुटकी भर नमक को पीसकर कान पर उसका गुनगुना लेप करने से कान के पीछे की सूजन नष्ट होती है.

6. काली मिर्च और तुलसी के पत्तों की गोली बनाकर दांत के नीचे रखने से दांत का दर्द दूर हो जाता है.

7. तुलसी के रस को हल्के गुनगुने पानी में मिलाकर कुल्ला करने से गले के रोगों में लाभ होता है.

8. तुलसी रस युक्त जल में हल्दी और सेंधा नमक मिलाकर कुल्ला करने से मुख, दांत तथा गले के विकार दूर हाते हैं.

9. तुलसी की मंजरी, सोंठ, प्याज का रस और शहद मिलाकर चटाने से सूखी खांसी और बच्चे के दमे में लाभ होता है.

10. छोटे बच्चों को सर्दी जुकाम होने पर तुलसी व 5-7 बूंद अदरक रस को शहद में मिलाकर देने से बच्चों का कफ, सर्दी, जुकाम ठीक हो जाता है.

First published: 24 November 2017, 13:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी