Home » हेल्थ केयर टिप्स » tulsi is disease destroyer herb health tips
 

तुलसी है आयुर्वेद में रोग नाशक जड़ी-बूटी, जानिए इसके बेजोड़ फायदे

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 August 2020, 14:02 IST

आयुर्वेद में तुलसी को रोग नाशक जड़ी-बूटी माना जाता है. तुलसी को कई बीमारियों में दवा की तरह इस्तेमाल करके इलाज किया जाता है. चलिए आज हम आपको बताते हैं तुलसी के पत्तियों की बेजोड़ फायदे.

तुलसी में पाए जाने वाले पोषक तत्व तुलसी की पत्तियों में विटामिन और खनिज तत्व मौजूद होते हैं. इसमें मुख्य रूप से विटामिन सी, कैल्शियम, जिंक और आयरन आदि पाए जाते हैं. इसके साथ ही तुलसी में सिट्रिक, टारटरिक एवं मैलिक एसिड पाया जाता है.


तुलसी खांसी और गले बैठने पर इसकी जड़ सुपारी की तरह चूसी जाती है. श्वास रोगों में तुलसी के पत्ते काले नमक के साथ सुपारी की तरह मुंह में रखने से आराम मिलता है.

तुलसी की हरी पत्तियों को आग पर सेंक कर नमक के साथ खाने से खांसी तथा गला बैठना ठीक हो जाता है.

तुलसी के पत्तों के साथ 4 भुनी लौंग चबाने से खांसी चली जाती है. तुलसी के कोमल पत्तों को चबाने से खांसी और नजले से राहत मिलती है.

खांसी-जुकाम में तुलसी के पत्ते, अदरक और काली मिर्च से तैयार की हुई चाय पीने से तुरंत लाभ मिलता है.
10 से 12 तुलसी के पत्ते और 8-10 काली मिर्च के चाय बनाकर पीने से खांसी जुकाम, बुखार ठीक होता है.

गर्मियों में इन चीजों के सेवन से बना ले दूरी, सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदायक

फेफड़ों में खरखराहट की आवाज आने व खांसी होने पर तुलसी की सूखी पत्तियां 4 ग्राम मिश्री के साथ देते हैं.
10 ग्राम तुलसी के रस को 5 ग्राम शहद के साथ सेवन करने से हिचकी, अस्थमा और श्वांस रोगों को ठीक किया जा सकता है.

वहीं तुलसी का उपयोग स्किन केयर के लिए भी किया जाता है. तुलसी पिपंल्स और चेहरे पर होने वाले दानों पर भी आराम देती है. तुलसी रक्त में से टॉक्सिन्स और अशुद्धि हटा कर उसे साफ करने का काम करता है.

इसमें एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो एक्ने को कम करता है. इसके लिए आप चाहें तो तुलसी की पत्तियों का पेस्ट बनाकर उसमें गुलाबजल मिलाएं और 10 मिनट के लिए चेहरे पर लगाएं और फिर अपने चेहरे को साफ पानी से धुल लें.

करेला है डायबिटीज रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद, ये हरी सब्जियां भी करती हैं फायदा

First published: 31 August 2020, 14:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी