Home » हेल्थ केयर टिप्स » Want to avoid diseases in the changing weather, do this work in the sun five minutes in the morning
 

बदलते मौसम में बीमारियों से चाहते हैं बचना, सुबह पांच मिनट धूप में करें ये काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 October 2020, 14:56 IST

Health Care Tips: बदलता मौसम बीमारियां लेकर आता है. इस मौसम में लोग सर्दी, बुखार, खांसी और सिर दर्द जैसी बीमारी से पीड़ित हो रहे हैं. यदि आप बदलते मौसम में हो रही वायरल बीमारी के प्रकोप से बचना चाहते हैं तो आपको हर रोज सुबह-सुबह पांच मिनट धूप में बिताना चाहिए. इससे आपको स्वस्थ रहने में यकीनन मदद मिलेगी.

सर्दी के मौसम में हर किसी को धूप सेंकना अच्छा लगता हैठंड से बचाने के लिए धूप सबसे अच्छा उपचार होती है. इसलिए आप भी रोजाना पांच मिनट धूप में बिताएं. इससे चमत्कारिक लाभ हो सकते हैं. धूप ठंड में चुभती नहीं है और शरीर को सुकून देती है. धूप का आंनद लेने से इस मौसम में गुरेज नहीं करना चाहिए.

यदि ठंड में आप रोजाना मात्र पांच मिनट की धूप भी लेते हैं तो कई तरह की गंभीर बीमारियों से बच सकते हैं. आप रोजाना अगर कुछ देर धूप में रहते हैं तो यह आपके शरीर के लिए ही फायदेमंद नहीं होता बल्कि आपको एक अलग ताजगी का अहसास होता है. सूर्य ऊर्जा, आरोग्य का कारक है. इससे जीवन में सकारात्मकता आती है.

Coronavirus: PM मोदी का ऐलान- कोई भी नहीं छूटेगा, देश के प्रत्येक नागरिक को फ्री में मिलेगी वैक्सीन

सुबह मिलने वाली धूप से पॉजिटिव एनर्जी शरीर और मन में अनोखी उष्मा आती है. दरअसल, तेजी से बदलते परिवेश में इंसान फ्लैट कल्चर से बाहर नहीं निकल पाता. ऐसे में प्रकृति से दूर रहने से तमाम तरह की बीमारियां पनपने लगती हैं. इसलिए घर से बाहर निकलें और कुछ समय प्रकृति के बीच बिताने में परहेज ना करें.

धूप विटामिन डी का एक बड़ा स्रोत है. यदि आपने सूर्योदय के समय धूप ली है तो यह धूप आपके शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाती. इससे आपकी हड्डियों को जरूरी विटामिन डी मिलता है. इस कारण आपकी हड्डियां मजबूत होती हैं. सूर्य की किरणें कैल्शियम का भी बड़ा स्रोत होती हैं. ये शरीर को कई रोगों से लड़ने की क्षमता देती हैं. धूप सेंकने से चर्मरोग एवं गठिया में लाभ मिलता है.

सावधान: इन चीजों के साथ दूध पीना हो सकता है जानलेवा, नहीं संभले तो जा सकती है जान

TV देखने के दौरान खाते हैं स्नैक्स तो हो जाएं सावधान, गंभीर बीमारी के हो सकते हैं शिकार

First published: 30 October 2020, 14:56 IST
 
अगली कहानी