Home » हेल्थ केयर टिप्स » why heart stroke and cardiac arrest are frequent while bathing
 

बाथरूम में ही क्यों आते हैं सबसे ज्यादा हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट, जानें क्या है वजह

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 August 2019, 13:11 IST

कई नामी हस्तियों और लोगों को हार्ट अटैक या फिर कार्डियक अरेस्ट की वजह से मौत होने की खबरें आपने सुनी होंगी. इन खबरों में अधिकतर आपने ये सुना होगा कि बाथरूम में कार्डियक अरेस्ट आया या फिर हार्ट अटैक आया. लेकिन क्या कभी आपने ऐसा सोचा है कि आखिर ज्यादातर लोगों को बाथरूम में ही कार्डियक अरेस्ट या फिर हार्ट अटैक क्यों आता है?

कार्डियक अरेस्ट हो या फिर हार्ट अटैक, दोनों ही परेशानियों का संबंध हमारे रक्त संचार से होता है. रक्त संचार की वजह से ही हमारे शरीर की अन्य बीमारियां नियंत्रित होती है. रक्त संचार का सीधा असर हमारे दिल से होता है, जिसके कारण हमारे शरीर की अन्य गतिविधियां कंट्रोल में रहती हैं. चलिए जानते हैं आखिर बाथरूम में ही क्यों सबसे ज्यादा हार्ट अटैक या फिर कार्डियक अरेस्ट आता है-

दरअसल, जब हम बाखरूम की टॉयलेट सीट का प्रयोग करते हैं, तो उस समय लगाया गया प्रेशर का प्रभाव सीधा हमारे रक्त प्रवाह पर पड़ता है. इस प्रेशर से दिल की धमनियों पर दबाव बढ़ता है, जो हार्ट अटैक या फिर कार्डियक अरेस्ट का कारण बन जाता है.

नहाने को लेकर डॉक्टर सलाह देते हैं कि बाथरूम जाते ही पहले अपने तलबों पर पानी डालें, इसके बाद धीरे-धीरे शॉवर लें. अगर आपने ऐसा नहीं किया तो डायरेक्ट सिर पर ठंडा पानी लेने से इसका सीधा असर रक्त संचार पर पड़ता है. इससे कई बार मामले बिगड़ जाते हैं, कभी-कभी व्यक्ति की दिल की धड़कने एकदम से बंद हो जाती हैं.

ब्रोकली खाने के होते हैं कई फायदे, इस जानलेवा बीमारी के सेल्स को करता है खत्म

अपने शरीर पर अचानक से गर्म या ठंडा पानी डालते हैं, तो इससे हमारे रक्त संचार पर सीधा प्रेशर पड़ता है. लेकिन अगर आप पैरों के सहारे धीरे-धीरे पानी डालते हैं, तो इससे रक्त संचार पर सीधा असर नहीं पड़ता. इसलिए बाथरूम में जाते समय इन बातों को ख्याल रखें.

सावधान! एल्यूमीनियम फॉयल में खाना नहीं, बल्कि पैक कर रहे हैं सेहत के लिए जहर

First published: 1 August 2019, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी