Home » हेल्थ केयर टिप्स » WorldDiabetesDay: these cure and precautions preventing the disease of diabetes
 

वर्ल्ड डायबिटीज डे: ये सावधानियां अपनाने से कभी नहीं होंगे मधुमेह से पीड़ित

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 November 2017, 12:47 IST

डायबिटीज मेटाबोलिक बीमारियों का एक समूह है, जिसमें व्यक्ति के खून में ग्लूकोज (ब्लड शुगर) का स्तर सामान्य से अधिक हो जाता है. ऐसा तब होता है, जब शरीर में इंसुलिन ठीक से न बने या शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन के लिए ठीक से प्रतिक्रिया न दें. जिन मरीजों का ब्लड शुगर सामान्य से अधिक होता है वे अक्सर पॉलीयूरिया (बार बार पेशाब आना) से परेशान रहते हैं. उन्हें प्यास (पॉलीडिप्सिया) और भूख (पॉलिफेजिया) ज्यादा लगती है. 

जेपी अस्पताल में एंडोक्राइनोलॉजी विभाग के चिकित्सक डॉ. मनोज कुमार के अनुसार, टाइप 1 डायबिटीज में शरीर में इंसुलिन नहीं बनता. मधुमेह के तकरीबन 10 फीसदी मामले इसी प्रकार के होते हैं. जबकि टाइप 2 डायबिटीज में शरीर में पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बना पाता. दुनिया भर में डायबिटीज  के 90 फीसदी मामले इसी प्रकार के हैं. डायबिटीज का तीसरा प्रकार है गैस्टेशनल डायबिटीज , जो गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को होता है.

उन्होंने कहा, "उचित व्यायाम, आहार और शरीर के वजन पर नियंत्रण बनाए रखकर डायबिटीज को नियंत्रित रखा जा सकता है. अगर डायबिटीज पर ठीक से नियंत्रण न रखा जाए तो मरीज में दिल, गुर्दे, आंख, पैर एवं तंत्रिका संबंधी कई तरह की बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है."

 

डायबिटीज के कारण:

1.जीवनशैली: बिना वर्क आउट वाली जीवनशैली, अधिक मात्रा में जंक फूड, फिजी पेय पदार्थो का सेवन और खाने-पीने की गलत आदतें डायबिटीज का कारण बन सकती हैं. घंटों तक लगातार बैठे रहने से भी डायबिटीज  की संभावना बढ़ती है.
2. सामान्य से अधिक वजन, मोटापा और शारीरिक निष्क्रियता: अगर व्यक्ति शारीरिक रूप से ज्यादा सक्रिय न हो अथवा मोटापे का शिकार हो, उसका वजन सामान्य से अधिक हो तो भी डायबिटीज की संभावना बढ़ जाती है. ज्यादा वजन इंसुलिन के निर्माण में बाधा पैदा करता है. शरीर में वसा की लोकेशन भी इसे प्रभावित करती है. पेट पर अधिक वसा का जमाव होने से इंसुलिन उत्पादन में बाधा आती है, जिसका परिणाम टाइप 2 डायबिटीज, दिल एवं रक्त वाहिकाओं की बीमारियों के रूप में सामने आ सकता है. ऐसे में व्यक्ति को अपने बीएमआई (शरीर वजन सूचकांक) पर निगरानी बनाए रखते हुए अपने वजन पर नियंत्रण रखना चाहिए.

3. जीन एवं पारिवारिक इतिहास : कुछ विशेष जीन मधुमेह की संभावना बढ़ा सकते हैं. जिन लोगों के परिवार में डायबिटीज का इतिहास होता है, उनमें इस रोग की संभावना अधिक होती है.

मधुमेह से ऐसे बचें:
1. नियमित व्यायाम करें: गतिहीन जीवनशैली डायबिटीज के मुख्य कारणों में से एक है. रोजाना कम से कम 30-45 मिनट व्यायाम मधुमेह से बचने के लिए आवश्यक है.
2. संतुलित आहार: सही समय पर सही आहार जैसे फलों, सब्जियों और अनाज का सेवन बेहद फायदेमंद है. लंबेे समय तक खाली पेट न रहें.
3. वजन पर नियंत्रण रखें: उचित आहार और नियमित व्यायाम द्वारा वजन पर नियंत्रण रखें. कम वजन और उचित आहार से डायबिटीज के लक्षणों को ठीक कर सकते हैं.
4. पर्याप्त नींद: रोजना सात-आठ घंटे की नींद महत्वपूर्ण है. नींद के दौरान हमारा शरीर विषैले पदार्थों को बाहर निकाल कर शरीर में टूट-फूट की मरम्मत करता है. देर रात तक जागने और सुबह देर तक सोने से डायबिटीज और हाइ ब्लड-प्रेशर की संभावना बढ़ती है.
5. तनाव से बचें: तनाव आज हर किसी के जीवन का जरूरी हिस्सा बन गया है. मनोरंजक एवं सामाजिक गतिविधियों द्वारा अपने आप को तनाव से दूर रखने की कोशिश करें. साथ ही तनाव के दौरान सिगरेट का सेवन करने से डायबिटीज की संभावना और अधिक बढ़ जाती है.

 

First published: 14 November 2017, 12:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी