Home » इंडिया » 1.5 lakh ATM to be closed in last February, cash crisis will be on peak
 

बुरी खबर: बंद होने वाले हैं देश के लाखों ATM, अपने ही पैसों के लिए तरस जाएंगे आप !

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2019, 14:48 IST

फरवरी महीने के अंत में देश के करीब डेढ़ लाख एटीएम बंद हो सकते हैं. ये दावा देश में सभी बैंकों व व्हाइट लेबल एटीएम को संचालित करने वाली संस्था ने किया है. बता दें, देश में कॉनफेडरेशन ऑफ एटीएम इंडस्ट्री (कैटमी) नाम की संस्था एटीएम के संचालन का पूरा काम देखती है. ऐसे में देश में एक बार फिर से कैश की किल्लत हो सकती है. हालांकि इस संकट से उबरने के लिए कैटमी ने सलाह दी है कि सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक को एटीएम से लेनदेन पर लगने वाले शुल्क में बढ़त कर देनी चाहिए.

नौकरियों पर भी होगा ख़तरा

इस बारे में कैटमी के निदेशक हिमांशु पुजारा ने अमर उजाला से बातचीत के दौरान बताया, ''एटीएम बंद होने से हजारों लोगों की नौकरी जाएगी, साथ ही सरकार के वित्तीय समावेशन करने के इरादे को भी झटका लगेगा.''

घाटे के कारण लेना पड़ रहा है ये फैसला
कैटमी ने बताया कि एटीएम बंद होने की वजह से कि ये एटीएम कंपनियां घाटे में चल रही हैं. इसी के चलते ये एटीएम की संख्या में कमी करने की तैयारी में हैं. खबर के अनुसार फिलहाल छोटे शहरों में ही एटीएम को बंद किया जाएगा. कहा जा रहा है कि इतनी बड़ी मात्रा में एटीएम के बंद होने से नोटबंदी जैसे हालात पैदा होने की आशंका है.

ATM से पैसे निकालने के पहले हो जाएं सावधान, माचिस की तीली से चुराया जा रहा है पिन

ये है समस्या का निजात
हिमांशु पुजारा ने ये भी बताया है कि इस संकट से उबरने का तरीका क्या है? पुजारा ने बताया कि अगर सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक शहरी क्षेत्रों में मौजूद एटीएमशुल्क शुल्क बढ़ा दे तो खतरा टाला जा सकता है.

कैटमी ने इस शुल्क को 15 रुपये से बढ़ा कर 18 रुपये करने का प्रस्ताव रखा है. इसी के साथ एटीएम से छठे ट्रांजेक्शन पर जो शुल्क अभी 20 रुपये है उसे बढ़ाकर कर 25 रुपये कर दिया जाए.

First published: 6 February 2019, 14:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी