Home » इंडिया » 10 CRPF commandos killed by IED in Bihar, bodies of three Naxalities have been recovered
 

बिहार: नक्सलियों से मुठभेड़ में 10 सीआरपीएफ जवान शहीद, चार नक्सली ढेर

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 July 2016, 9:44 IST
(सांकेतिक फोटो)

बिहार के औरंगाबाद में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ के दौरान आईईडी ब्लास्ट में सीआरपीएफ के 10 जवान शहीद हो गए हैं. सभी कमांडो 205 कोबरा बटालियन के थे. एनकाउंटर के दौरान चार माओवादी भी मारे गए हैं.

घायल सीआरपीएफ जवानों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. गंभीर रूप से घायल छह में से तीन जवानों की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक, औरंगाबाद के सोनदाहा में कोबरा बटालियन के जवानों और नक्सलियों के बीच सोमवार दोपहर में मुठभेड़ शुरू हुई थी.

पढ़ें: छत्तीसगढ़: सीआरपीएफ गश्ती दल पर नक्सली हमले में सात जवान शहीद

सोमवार देर शाम ही मुठभेड़ खत्म हो गई. इसके बाद मंगलवार सुबह तक सर्च ऑपरेशन चलाया गया. तीन नक्सलियों के शव भी मौके से बरामद किए गए हैं.

राजनाथ ने सीएम नीतीश से की बात

इस बीच औरंगाबाद में हुए नक्सली हमले का जायजा लेने के लिए सीआरपीएफ के महानिदेशक दुर्गा प्रसाद घटनास्थाल का दौरा करेंगे. साथ ही उन्होंने इस हमले की पूरी जानकारी गृह मंत्री राजनाथ सिंह को फोन पर दी.

पढ़ें: छत्तीसगढ़: कोंडागांव में आईटीबीपी कैंप पर नक्सली हमला

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से फोन पर बातचीत की. वहीं सीआरपीएफ के आईजी और डीआईजी मौके पर पहुंच गए हैं. सीआरपीएफ अधिकारियों के मुताबिक मरने वाले जवानों की संख्या में इजाफा हो सकता है.

205 कोबरा बटालियन के शहीद जवानों की सूची

  1. अनिल कुमार सिंह (बक्सर, बिहार)
  2. के उपेन्द्र सिंह (थाउबल, मणिपुर)
  3. सिनोद कुमार (आजमगढ़, यूपी)
  4. रमेश कुमार (होशियारपुर, पंजाब)
  5. दिवाकर कुमार (खगड़िया, बिहार)
  6. पोलाश मंडल (दक्षिणी दिनाजपुर, पश्चिम बंगाल)
  7. दीपक घोष (नादिया, पश्चिम बंगाल)
  8. मनोज कुमार, (बेतूल, मध्य प्रदेश)
  9. हरवेंद्र पंवार (मुजफ्फरनगर, यूपी)
  10. रवि कुमार (सिवान, बिहार)

मुठभेड़ के दौरान 25 से 30 विस्फोट

औरंगाबाद एसपी बाबूराम के नेतृत्व में नक्सलियों के खिलाफ पहड़तली इलाके में सर्च ऑपरेशन चल रहा था. बड़ी संख्या में सीआरपीएफ और कोबरा के जवान अभियान में जुटे थे.

205 बटालियन कोबरा के जवान सर्च ऑपरेशन चला रहे थे. जब सभी डुमरी नाला के पास से गुजर रहे थे, तभी नक्सलियों ने सड़क में लगाए आइईडी में तार के जरिए विस्फोट कर दिया.

बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने इस दौरान 25-30 विस्फोट किए. साथ ही सर्च करने गए पुलिस और कोबरा बटालियन के जवानों पर नक्सलियों ने हमला कर दिया. 

हथियारों का जखीरा बरामद

इस लैंड माइन विस्फोट में कोबरा बटालियन के आठ कमांडो मौके पर ही शहीद हो गए. इसके पहले मुठभेड़ में जवानों ने चार से नक्सलियों को भी मार गिराया. आशंका है कि कुछ घायलों को लेकर नक्सली जंगल में चले गए.

नक्सलियों के शवों के साथ ही मुठभेड़ स्थल से अत्याधुनिक हथियार भी बरामद हुए हैं. घायल जवानों को मगध मेडिकल कॉलेज और पटना के एक बड़े निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया. नक्सलियों द्वारा आईडी विस्फोट की यह बड़ी वारदात है.  

औरंगाबाद एसपी को मिली थी धमकी

एक हफ्ते पहले ही नक्सलियों ने औरंगाबाद एसपी बाबूराम को जान से मारने की धमकी दी थी. सोमवार दोपहर नक्सलियों की घेराबंदी के लिए सीआरपीएफ की एलीट कमांडो फोर्स कोबरा के जवान सोनदाहा पहुंचने वाले थे कि नक्सलियों को इसकी भनक लग गई और उन्होंने हमला बोल दिया.

पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की. दोनों ओर से 500 राउंड से ज्यादा गोलियां चलीं. मूसलधार बारिश और अंधेरा होने से जवानों को काफी मुश्किलें हो रही थीं.

पुलिस के मुताबिक लगातार मात खा रहे नक्सली किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए सोमवार को जंगल में जमा हुए थे. नक्सलियों के जुटने की इंटेलिजेंस इनपुट मिलते ही औरंगाबाद पुलिस, कोबरा 205 बटालियन और सीआरपीएफ के सैकड़ों जवान पहाड़ियों की ओर चले गए.

लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई. इसके साथ ही गया में भी शहीद सीआरपीएफ जवानों को श्रद्धांजलि दी गई.

First published: 20 July 2016, 9:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी