Home » इंडिया » 10 wagons relief train with 50,000 litres water reach drought hit Latur
 

5 लाख लीटर पानी के साथ लातूर पहुंची राहत की रेल

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

सूखे से जूझ रहे महाराष्ट्र के मराठवाड़ा इलाके की प्यास बुझाने के लिए एक ट्रेन लातूर पहुंच गई है. ट्रेन के जरिए कुल पांच लाख लीटर पानी भेजा गया है. 10 डिब्बों वाली ये ट्रेन पश्चिमी महाराष्ट्र के मिराज से सोमवार सुबह चली थी.

करीब 18 घंटे में 350 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद सुबह करीब पांच बजे राहत ट्रेन लातूर पहुंची. ट्रेन के हर डिब्बे में 50 हजार लीटर पानी स्टोर है. जिसे साफ करके लातूर के सूखा पीड़ित लोगों को मुहैया कराया जाएगा.

पढ़ें: पानी को लेकर लातूर में बनी युद्ध जैसी स्थिति

ट्रेन से पानी की सप्लाई जिले के सूखा प्रभावित इलाकों में भी की जाएगी. लातूर में पानी की किल्लत की वजह से हालात इतने बिगड़ चुके हैं कि इलाके में धारा 144 लागू है.

8 अप्रैल को राहत ट्रेन राजस्थान के कोटा से पुणे के मिराज के लिए रवाना हुई थी. प्रशासन ने लातूर से करीब सात किलोमीटर दूर एक कुएं में ट्रेन का पानी स्टोर करने का फैसला लिया है. वहीं शहर में 70 टैंकरों के जरिए लोगों को पानी मुहैया कराने की तैयारी है.

पढ़ें: राजेंद्र सिंह: पूंजीपतियों को नहीं, लोगों को पानी का मालिक बनाना होगा

शुक्रवार को अगली राहत ट्रेन !

बताया जा रहा है कि अगली राहत ट्रेन शुक्रवार तक लातूर पहुंच सकती है. राज्य सरकार और रेल मंत्रालय ने शहर को पानी पहुंचाने के लिए ये कदम उठाया है. 50 डिब्बों वाली दूसरी ट्रेन 15 अप्रैल को रवाना हो सकती है.

ट्रेन के हर डिब्बे में 54 हजार लीटर पानी ले जाने की क्षमता है. उम्मीद है कि अगले हफ्ते तक ट्रेन के जरिए लातूर को करीब 50 लाख लीटर पानी मिल सकता है.

पढ़ें:आईपीएल को रोककर सूखे का समाधान निकल जाएगा?

बूंद-बूंद को मोहताज मराठवाड़ा

महाराष्ट्र का मराठवाड़ा इलाका बूंद-बूंद पानी को मोहताज है. लगातार चौथे साल इलाका सूखे से बुरी तरह प्रभावित है. लातूर के अलावा औरंगाबाद, और विदर्भ के जिलों में भी हालात बदतर हैं.

महाराष्ट्र में करीब 15 हजार 750 गांव सूखे का सामना कर रहे हैं. वहीं सूखे की वजह से पलायन भी बढ़ रहा है. लातूर और नांदेड़ से किसानों और खेतिहर मजदूरों के मुंबई आने का सिलसिला शुरू हो चुका है.

पढ़ें:सूखा पीड़ितों पर स्कूली बच्चों का मरहम

First published: 12 April 2016, 12:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी