Home » इंडिया » 100 Army Service Corps officers approach Supreme Court claiming discrimination in promotions
 

रक्षामंत्री बनते ही निर्मला सीतारमण के सामने आई बड़ी चुनौती, 100 अफसरों ने SC में लगार्इ गुहार

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 September 2017, 14:17 IST

रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण के पदभार संभालते ही उनके सामने नई मुसीबत आ गई. लगभग 100 लेफ्टिनेंट कर्नल और मेजर ने न्याय के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. अधिकारियों का कहना है कि उनके साथ पदोन्नति में अन्याय और भेदभाव हुआ है.

टाइम्स आॅफ इंडिया की खबर के मुताबिक लेफ्टिनेंट कर्नल पीके चौधरी की नेतृत्व में संयुक्त याचिका में सुप्रीम कोर्ट से अफसरों ने कहा है कि सर्विसेज कोर के अफसरों को ऑपरेशनल एरिया में नियुक्त किया जाता है. कॉम्बैट ऑर्मस कोर के अफसरों को भी ऐसी ही चुनौतियों से दो-चार होना पड़ता है. फिर कॉम्बैट ऑर्मस के अफसरों को प्रमोशन दिया जा रहा है, उन्हें क्यों नहीं ? 

उन्होंने ने बयाता कि सेना और केंद्र सरकार के इस कदम के कारण याचिकाकर्ताओं में अन्याय की भावना पैदा हुई है, जिससे अधिकारियों का मनोबल कमजोर हुआ है, जो सेना और देश दोनों के लिए नुकसानदायक है.

अधिकारियों के इस कदम से सरकार के सामने नई चुनौती खड़ी हो गई है. याचिकाकर्ताओं ने अपनी याचिका में आग्रह किया है कि अगर उनके साथ पदोन्नती में ऐसी ही भेदभाव हुआ और उन्हें उनका हक नहीं मिला, तो उन्हें ऑपरेशनल एरिया और युद्ध क्षेत्र में तैनात न किया जाए.

याचिका में कहा गया है कि जिन अधिकारियों ने समर्पित भाव से 10-15 साल तक सेवा की है, पदोन्नोती में भेदभाव के कारण उनका मनोबल टूट रहा है.

First published: 11 September 2017, 14:17 IST
 
अगली कहानी