Home » इंडिया » Catch Hindi: 11 achievements of narendra modi usa visit
 

पीएम मोदी के अमेरिका दौरे की 11 उपलब्धियां

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2016, 23:29 IST
(एएफपी)

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पद ग्रहण करने के बाद चौथी बार अमेरिका का दौरा किया. इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच कई नए क्षेत्रों में आपसी सहयोग को लेकर सहमति बनी है. वहीं राष्ट्रीय सुरक्षा, स्वच्छ ऊर्जा, व्यापार और रक्षा क्षेत्रों में पुराने समझौतों को और मजबूत किया गया.

पीएम मोदी के इस दौरे की कुछ प्रमुख उपलब्धियां-

1- दोनों देशों के नेताओं ने आतंकवाद के मुद्दे पर ज्यादा व्यापक और गहरी साझेदारी पर सहमति जताई है.

पीए मोदी और राष्ट्रपति ओबामा दोनों ने पाकिस्तान से मुंबई और पठानकोट हमले के दोषियों को सजा दिलाने के लिए कहा है.

एनएसजी और एमटीसीआर पर भारत को मिला अमेरिका का साथ

दोनों देशों की तरफ से जारी किए गए संयुक्त बयान में कहा गया, "दोनों नेता अल-कायदा, दाएश/इस्लामिक स्टेट, जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा, डी कंपनी और उनके सहयोगियों इत्यादि  के खिलाफ ज्यादा मजबूत साझेदारी करने के लिए प्रतिबद्ध हैं...इस संदर्भ में अमेरिका और भारत के काउंटर-टेररिज्म ज्वाइंट वर्किंग ग्रुप अपने अगली बैठक में सहयोग के नए क्षेत्रों पर चर्चा करेंगे."

संयुक्त बयान में कहा गया है कि लश्कर और डी कंपनी कथित तौर पर पाकिस्तान में सक्रिय हैं और उन्हें समय समय पर इस्लामिक स्टेट की भी मदद मिलती रहती है.

2- दोनों देश आतंकवादियों की पहचान से जुड़ी सूचना साझा करने पर भी राजी हो गए हैं.

3- अमेरिका स्थित वेस्टिंगहाउस इलेक्ट्रिक भारत में छह परमाणु रिएक्टर बनाएगा. संयुक्त बयान के अनुसार, "भारत और अमेरिका के आयात-निर्यात बैंक पूरी परियोजना को वित्तीय मदद उपलब्ध कराने के लिए काम कर रहे हैं, और भारती न्यूक्लियल कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया और तोशिबा कॉर्प्स वेस्टिंगहाउस इलेक्ट्रिक ने इंजीनियरिंग और साइट डिजाइन पर तत्काल काम शुरू कर देंगे." बयान के अनुसान दोनों कंपनियां जून 217 तक अनुबंध पूरा कर लेंगी.

भारत में अगले तीन साल में तीन लाख करोड़ का अमेरिकी निवेश

4- भारत आखिरकार एमटीसीआर का सदस्य बन गया है. इस समूह में अब 35 सदस्य हो गए हैं. अब भारत को मिसाइल तकनीकी के आयात और निर्यात में सुविधा होगी

5 - अमेरिका ने न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (एनएसजी) में भारत की सदस्यता का समर्थन किया है. भारत लंबे समय से एनएसजी का सदस्य बनने के लिए प्रयासरत है. भारत ने एनएसजी के सदस्य देशों को मनाने के लिए अपने चुनिंदा कूटनीतिज्ञों को भेजा है. पीएम मोदी जिन छह देशों की यात्रा की उनमें से तीन एनएसजी के सदस्य हैं. 

एएफपी

6 - अमेरिका ने फिर से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता का समर्थन किया है.

रक्षा क्षेत्र में अमेरिका ने भारत को भरोसा दिलाया है कि "वो भारत को अपने सबसे करीबी सहयोगियों और साझेदारी की तरह तकनीकी उपलब्ध कराएगा."

पीएम मोदी और राष्ट्रपति ओबामा इस बात पर सहमति जताई कि अमेरिका भारत को लाइसेंस-मुक्त ड्यूअल-यूज वाली तकनीकी उपलब्ध कराएगा.

अमेरिकी कारोबारी: नरेंद्र मोदी से विकास का तरीका सीखें भावी राष्ट्रपति

7- पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी योजना 'मेक इन इंडिया' को समर्थन देते हुए अमेरिका ने अमेरिकी कानून के दायरे में गुड्स और तकनीकी उपलब्ध कराते रहने का आश्वासन दिया है.

8- पीएम मोदी और राष्ट्रपति ओबामा ने डिफेंस टेक्नोलॉजी एंड ट्रेड इनिशिएटिव (डीटीटीआई) के तहत भी रक्षा क्षेत्र में साझा निर्माण और विकास को बढ़ावा देने की बात कही है.

पीआईबी

9- जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर भारत ने यथाशीघ्र पेरिस सीओपी पर दस्तखत करने का आश्वासन दिया है. दोनों देशों ने ग्रीनहाउस गैसों के कम उत्सर्जन नीति के तहत 2016 में एसएफसी संशोधन स्वीकार करने के लिए कहा है. जिसे लागू करने के लिए दानदाता देश विकासशील देशों को मल्टीलैटेरल फंड उपलब्ध कराएंगे.

भारत और अमेरिका ने दो करोड़ ड़ॉलर के अमेरिका-इंडिया क्लीन एनर्जी फाइनेंस (यूएसआईसीईएफ) के निर्माण की भी घोषणा की है. उम्मीद है कि इससे 2020 तक दस लाख घरों तक क्लीन और रिन्यूएबल इलेक्ट्रिसिटी पहुंच सकेगी.

10- दोनों देशों ने एक एमओयू पर भी दस्तखत किया है जिसके अनुसार अमेरिका के चुनिंदा हवाईअड्डे पर 'कम खतरे' वाले भारतीयों को चुनिंदा हवाईअड्डों पर सुविधाजनक प्रवेश की सहूलियत दी जाएगी. अमेरिका में करीब तीस लाख भारतीय रहते हैं. इस एमओयू के बाद भारत ग्लोबल एंट्री प्रोग्राम में शामिल हो जाएगा, जो अमेरिका के 40 हवाईअड्डों पर उपलब्ध है और इसमें 18 लाख लोग पंजीकृत हैं.

11- पीएम मोदी ने अमेरिकी कारोबारियों के समुदाय के संग एक महत्वपूर्ण गोलमेज बैठक की. यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल के अध्यक्ष ने कहा कि यूएसआईबीसी के सदस्य भारत में 45 अरब डॉलर का निवेश करने वाले हैं. और ये राशि दोगुनी भी हो सकती है.

First published: 8 June 2016, 23:29 IST
 
अगली कहानी