Home » इंडिया » Three MLAs from SP, three from Congress and two from BSP join BJP in Lucknow
 

यूपी चुनाव से पहले भाजपा ने लगाई बड़ी सेंध, सपा, बसपा और कांग्रेस के 6 विधायक पार्टी में शामिल

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 August 2016, 14:46 IST

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा ने बड़ी सेंध लगाई है. लखनऊ में सपा, बसपा और कांग्रेस के 6 वर्तमान विधायकों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है. कांग्रेस के तीन, बसपा के दो और सपा के एक विधायक भाजपा में शामिल हुए हैं.

यूपी भाजपा अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पार्टी में शामिल विधायकों के नाम का एलान किया. 

6 वर्तमान विधायकों ने लखनऊ में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है. नामों का एलान करने से पहले केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि 2017 के विधानसभा चुनाव में 265 प्लस का मिशन पूरा किया जाएगा. 

'अभी पहली किश्त, कई किश्त बाकी'

केशव मौर्य ने इस दौरान कहा, "मिशन 265 प्लस ही नहीं बल्कि प्लस प्लस करते हुए चुनाव में भाजपा बहुमत से बहुत ज्यादा सीटें जीतने वाली है."

दूसरी पार्टी के विधायकों के भाजपा में शामिल होने पर केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, "इससे पहले स्वामी प्रसाद मौर्य जैसे वरिष्ठ नेता पार्टी में शामिल हुए हैं. अभी और विधायक भाजपा का दामन थामने वाले हैं. यह पहली किश्त है, अभी कई किश्त बाकी है."

पढ़ें: माया के 'स्वामी' अब कमल के कुनबे में

केशव प्रसाद मौर्य ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि चुनाव से पहले सभी दलों में भगदड़ मची है. अखिलेश सरकार पर निशाना साधते हुए मौर्य ने कहा कि सपा सरकार में कानून का राज नहीं है, हर ओर लूट-खसोट मची हुई है.

मौर्य ने कहा, "पीएम मोदी के नेतृत्व में भाजपा यूपी के विकास के लिए प्रतिबद्ध है. पीएम विकास की गंगा बहा रहे हैं. उनके नेतृत्व में समाज के सभी वर्गों का विकास हो रहा है."

यह विधायक भाजपा में शामिल

1. माधुरी वर्मा- कांग्रेस, बहराइच जिले के नानपारा से विधायक

2. विजय दुबे- कांग्रेस, कुशीनगर से विधायक

3. संजय जायसवाल- कांग्रेस, बस्ती के रुधौली से विधायक

4. बाला प्रसाद अवस्थी- बसपा, लखीमपुर खीरी के मोहम्मदी से विधायक

5. राजेश त्रिपाठी- बसपा, गोरखपुर के चिल्लूपार से विधायक

6. शेर बहादुर सिंह- सपा, अंबेडकरनगर से छह बार से विधायक

गुड्डू पंडित नहीं हुए शामिल

इससे पहले राज्यसभा चुनाव में अपनी पार्टी से बगावत कर भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करने वाले डिबाई विधायक गुड्डू पंडित और उनके भाई के भी बीजेपी में शामिल होने की चर्चा थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

जानकारी के मुताबिक, इन दोनों पंडित भाइयों की कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव से नाराजगी इस हद तक बढ़ गर्इ है कि अब उनकी सपा में वापसी के दरवाजे बंद हो गए हैं. ऐसे में अब उनके पास बीजेपी में आने के आलावा और कोई विकल्प शेष नहीं बचा है.

हालांकि चुनावी मौसम में विधायकों की दल-बदल सामान्य बात है. इससे पहले बुधवार को सपा और कांग्रेस के चार मुस्लिम विधायकों ने नसीमुद्दीन सिद्दीकी की मौजूदगी में बसपा की सदस्यता ग्रहण की थी.  

बुधवार को कांग्रेस के तीन विधायक और समाजवादी पार्टी के एक विधायक बीएसपी में शामिल हुए. बीएसपी में शामिल होने वाले ये सभी विधायक मुसलमान हैं.

कांग्रेस के मोहम्मद मुस्लिम, नवाब काज़िम अली खान, दिलनवाज़ खान और समाजवादी पार्टी के नवाजिश आलम खान हाथ और साइकिल छोड़कर हाथी पर सवार हुए.

कमल का कुनबा बढ़ेगा!

कई विधायक जिन्हें इस बात का भरोसा नहीं होता कि आगामी चुनाव में पार्टी उन्हें टिकट देगी, वे पार्टी बदल लेते हैं. लेकिन इस भगदड़ में अभी बसपा को सबसे ज्यादा नुकसान होता दिख रहा है क्योंकि उसके भागने वाले विधायकों में उनकी पार्टी के नंबर दो स्वामी प्रसाद मौर्य भी शामिल हैं.

आज भी बसपा के दो विधायक भाजपा में शामिल हुए हैं. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल होते हुए स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा था कि उनके संपर्क में बहुत से विधायक हैं, जो बसपा छोड़कर जल्द बीजेपी में आ जाएंगे.

यह भी कहा जा रहा है कि कुछ विधायक अपनी व्यक्तिगत व्यस्तताओं के चलते आज बीजेपी मुख्यालय नहीं पहुंच पाए, लेकिन कुछ अन्य विधायक जल्द बीजेपी में शामिल होंगे. इसके संकेत केशव प्रसाद मौर्य ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दिए, जब उन्होंने आज शामिल विधायकों को पहली किश्त करार दिया.

First published: 11 August 2016, 14:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी