Home » इंडिया » 1984 anti sikh riots case death penalty assured by Delhi patiyala house court
 

1984 सिख विरोधी दंगे में कोर्ट का बड़ा फैसला, दोषी यशपाल को दी सजा-ए-मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 November 2018, 16:53 IST

1984 सिख विरोधी दंगा केस पर बड़ा फैसला देते हुए आज दिल्ली स्थित पटियाला हाउस कोर्ट ने दंगों में दोषी करार दिए गए दोषी आरोपी यशपाल सिंह को मौत की सजा दी है जबकि नरेश सहरावत को उम्र कैद की सजा दी गई है. कोर्ट ने तिहाड़ जेल में यह फैसला सुनाया है. 34 साल बाद आज पटियाला हाउस कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है. सकती है

गौरतलब है कि 1984 दंगों के दौरान दक्षिणी दिल्ली के महिपालपुर में दो सिखों की हत्या कर दी गई थी. इस मामले पर सुनवाई करते हुए अदालत ने 14 नवंबर को नरेश सहरावत और यशपाल सिंह को दोषी करार दिया था. कोर्ट ने सुनवाई के दौरान अदालत ने सज़ा पर फैसला सुरक्षित रख लिया था.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 1984 सिख दंगा मामले में एसआईटी गठित की थी और संबंधित कई मुकदमों की दोबारा जांच की है उन्हीं मामलों में से एक ये मामला भी है.

पटियाला हाउस कोर्ट ने दोनों दोषियों को हत्या, हत्या की कोशिश, दंगा फैलाना, भीड़ को भड़काने का दोषी करार दिया था. इससे पहले की सुनवाई में कोर्ट ने दोनों आरोपियों को दोषी करार दिया और तत्काल दोनों को पुलिस ने हिरासत में भेज दिया गया.

First published: 20 November 2018, 16:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी