Home » इंडिया » 2002 Gulberg Society riots: BJP Corporator Bipin Patel Acquitted
 

गुलबर्ग सोसाइटी दंगा: बीजेपी नेता बिपिन पटेल बरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 June 2016, 17:33 IST

गुजरात में 2002 के गुलबर्ग सोसाइटी दंगे में अहमदाबाद की एक विशेष अदालत ने बीजेपी नेता बिपिन पटेल समेत 36 लोगों को आरोपों से बरी कर दिया है.

बिपिन पटेल असर्वा से बीजेपी पार्षद हैं. पटेल उस वक्त भी पार्षद थे, जब 2002 में सोसाइटी में दंगे भड़के थे. उन्होंने पिछले साल दिसंबर में अहमदाबाद नगर निगम चुनाव जीता था. यह उनकी बीजेपी के टिकट पर लगातार चौथी जीत है.

गुलबर्ग सोसाइटी केस: 28 फरवरी 2002 से अब तक क्या हुआ?

2009 में किया था सरेंडर

इस मामले में बिपिन पटेल ने फरवरी, 2009 में कोर्ट में आत्मसमर्पण किया था. पटेल समेत अन्य आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के अंतर्गत आपराधिक साजिश, हत्या, हत्या के प्रयास, धार्मिक आधार पर दो समूहों के बीच उन्माद फैलाना, साक्ष्य को गायब करना, दंगा, डकैती के मामले दर्ज किए गए थे.

गुरुवार को विशेष अदालत ने 24 आरोपियों को दोषी करार दिया है. 28 फरवरी 2002 को हजारों की हिंसक भीड़ ने अहमदाबाद की गुलबर्ग सोसाइटी पर हमला कर दिया था. गुलबर्ग सोसाइटी दंगों में 69 लोगों की हत्या कर दी गई थी. जिनमें पूर्व कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी भी थे.

गुजरात: 2002 गुलबर्ग सोसाइटी दंगे में 24 अभियुक्त दोषी करार

कोर्ट के फैसले पर एहसान जाफरी की पत्नी जकिया जाफरी ने कहा है कि इंसाफ नहीं मिलने तक लड़ाई जारी रखी जाएगी. जकिया ने कहा कि 36 लोगों के बरी होने का उन्हें अफसोस है.

First published: 2 June 2016, 17:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी