Home » इंडिया » 2006 QQ 23 asteroid could have swiped out a whole country if it hits the earth
 

2006 QQ 23- 10 अगस्त को पृथ्वी से टकराएगा ये क्षुद्रग्रह, खत्म हो जाएगा एक देश

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 July 2019, 12:54 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

हमारे अंतरिक्ष में हजारों की संख्या में क्षुद्रग्रह या एस्टेरॉयड भ्रमण कर रहे हैं. ऐसे में कई बार कुछ एस्टेरॉयड पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल के चलते पृथ्वी की ओर बढ़ने लगते हैं. अगर ये पृथ्वी की कक्षा में आकर नष्ट ना हों और पृथ्वी से टकरा जाएं तो बड़ी तबाही का कारण बन सकते हैं. ऐसा ही एक एस्टेरॉयड एक बार फिर से वैज्ञानिकों की चिंता की वजह बन गया है. जो 10 अगस्त को पृथ्वी से टकरा सकता है. अगर ये एस्टेरॉयड पृथ्वी से टकराया तो भारी तबाही आ सकती है. माना तो यहां तक जा रहा है कि इसके टकराने से पूरा एक देश नष्ट हो जाएगा.

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने 2006 QQ23 नाम के एक एस्टेरॉयड का पता लगाया है. जो 10 अगस्त को धरती से टकरा सकता है. नासा के अलावा दुनियाभर के वैज्ञानिक चिली स्थित दुनिया की सबसे बड़ी दूरबीन के जरिए इस पर नजर बनाए हुए हैं. वैज्ञानिकों का कहना है कि वे इसके खतरे को लेकर अपना रिसर्च में लगे हुए हैं. वहीं नासा के वैज्ञानिक इसके आकार और प्रकार को मापने का काम लगातार कर रहा है.

दरअसल, वैज्ञानिकों ने 21 अगस्त 2006 को पहली बार इस एस्टेरॉयड का पता लगाने में सफलता पाई थी. तब भी बताया गया कि ये धरती से टकराने वाला है. उस दौरान वैज्ञानिकों ने 10 दिनों तक इस एस्टेरॉयड पर नजर रखी थी. यह धरती के काफी करीब आ गया था. लेकिन, इसके बाद यह गायब हो गया. अब नासा के वैज्ञानिकों को यह एस्टेरॉयड दोबारा नजर आया है.

जिसे बेहद सक्रिय बताया जा रहा है. हाल ही में नासा के सेंटर फॉर नीयर अर्थ आब्जेक्ट स्टडीज के मैनेजर पॉल चडस ने बताया कि 20,000 से अधिक विश्लेषणों में पाया गया है कि अगली सदी में इंसानों के खत्म होने की संभावना 10,000 में एक हैवैज्ञानिकों का मानना है कि इस एस्टेरॉयड का ब्यास 254 से 568 मीटर के बीच हो सकता है. यह 263 दिनों में सूर्य का एक चक्कर लगा रहा रहा है. वैज्ञानिकों ने इसे अटेन श्रेणी में रखा है जिसका मतलब होता है कि यह धरती के नजदीक से गुजरने वाला एस्टेरॉयड है.

NASA के सेंटर फॉर नीयर अर्थ आब्जेक्ट स्टडीज के मुताबिक, यह एस्टेरॉयड 10 अगस्त को पृथ्वी के सबसे करीब यानि करीब 0.04977 एस्ट्रोनॉमिकल यूनिट्स की दूरी से गुजरेगा. इसके धरती से टकाने की आशंका 7000 में से एक के बराबर है. हालांकि वैज्ञानिक इसके खतरे को कम करके नहीं देख रहे हैं. वैज्ञानिकों का कहना है कि यदि इतना बड़ा एस्टेरॉयड धरती से टकरा जाए तो एक देश खत्म हो जाएगा.

बता दें कि साल 2013 मेंच चेलियाबिंस्क में एक छोटा पिंड पृथ्वी से टकरा गया था जिसकी वजह से 66 फीट गहरा गड्ढा हो गया था. यह टक्कर दक्षिणी यूराल क्षेत्र में हुई थी जिसके कारण करीब 1500 लोग घायल हो गए थे. यह इतनी तेज घटना थी जिसे लोग समझ ही नहीं पाए थे.

आज रात आसमान में दिखेगा अद्भुत नजारा, टूटते तारों से रंगीन हो जाएगा आसमान

First published: 31 July 2019, 12:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी