Home » इंडिया » 21 lions at Gir sanctuary infected with canine distemper virus: Medical research council
 

ये खतरनाक वायरस ले चुका है गिर के 23 शेरों की जान, बचाने के लिए अपनाये जायेंगे ये उपाय

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2018, 11:06 IST
(AFP)

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के वैज्ञानिकों ने मंगलवार को कहा कि गुजरात के गिर अभयारण्य में कम से कम 21 शेर कैनिन डिस्टेंपर वायरस से संक्रमित थे. पिछले महीने गिर अभयारण्य में 23 शेरों की मौत हो गई थी. पुणे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी को गिर के 27 शेरों से नाक, ओकुलर और रेक्टल swabs के कुल 80 नमूने प्राप्त हुए थे. आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, "सभी शेरों में यह वायरस सक्रिय है. जानवरों को तुरंत कैनिन डिस्टेंपर वायरस का टीका लगाया जाना चाहिए. वर्तमान में अधिकांश उपलब्ध टीके सीडीवी अमेरिकी जीनोटाइप से बने हैं. इन टीकों का इस्तेमाल कई देशों में किया गया है और प्रभावी साबित हुए हैं."

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार "चूंकि सक्रिय बीमारी संचरण का संकेत है, इसलिए हमने निर्देश दिया है कि शेरों को टीका दिया जाए और विभिन्न भौगोलिक स्थानों में रखा जाए." आईसीएमआर के अधिकारियों ने सिफारिश की है कि गिर से स्वस्थ शेरों को संभवतः दो या तीन, अभयारण्य में स्थानांतरित किया जाना चाहिए. एक अधिकारी ने कहा, "शेरों में सीडीवी के कारण मृत्यु दर के बारे में कोई कागजात नहीं हैं." "हालांकि एक बार पाया गया सीडीवी संक्रमण 50% संक्रमित कुत्तों और 80% संक्रमित पिल्लों को मार सकता है."

 

नेशनल पार्क में दो दर्जन से अधिक शेरों की मौत पर राजयसभा सांसद अहमद पटेल ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा था. इस पत्र में उन्होंने शेरों की मौत के लिए राज्य के प्रबंधन की लापरवाही को जम्मेदार बताया. उन्होंने कहा, 'उनकी मौत रातों रात नहीं हुई है, बल्कि राज्य सरकार का लंबे समय से खराब प्रबंधन और खराब निगरानी इसका नतीजा है.' पिछले 20 दिनों में गिर में 23 शेरों की मौत हो गई है.

एशियाई शेरों की मौत पर देश की सर्वोच्च अदालत ने भी केंद्र व राज्य सरकार को तालाब करते हुए शेरों की मौत का कारण पता लगाने के आदेश दिए हैं. शेरों की मौत पर केंद्र और गुजरात सरकार से सवाल करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह बेहद गंभीर मुद्दा है और सरकार को शेरों की मौत का कारण पता होना चाहिए, शेरों को संरक्षित किया जाना चाहिए.

 ये भी पढ़ें : गिर नेशनल पार्क में 2 दर्जन से अधिक शेरों की मौत पर राज्य सभा सांसद अहमद पटेल ने लिखा PM मोदी को खत

First published: 10 October 2018, 11:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी