Home » इंडिया » 21% of patient do not know that they are infected with AIDS
 

देश में HIV संक्रमित 21% लोगों को पता ही नहीं कि उन्हें AIDS जैसी जानलेवा बीमारी है

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 November 2018, 10:35 IST

एचआईवी(HIV) एक ऐसा संक्रमण है जिसके लिए अभी तक कोई इलाज नहीं खोजा जा सका है. हालांकि इसे निष्क्रिय करने के लिए मेडिकल साइंस ने एंटीरीट्रोवायरल थेरेपी का एक रास्ता निकाल लिया है. इस थेरेपी के द्वारा विषाणु के संक्रमण को लगभग नगण्य स्तर पर लाया जा सकता है. जिससे कि ये विषाणु शरीर में एक तरह से निष्क्रिय हो जाता है.

इस थेरेपी के बाद एचाआईवी में संक्रमित मरीज भी एक सामान्य जिंदगी जी सकता है. इस प्रक्रिया के लिए मरीज को हर साल यानी हर 12 महीने पर इसकी जांच करानी होती है. लेकिन लाइलाज होने से तो बेहतर है कि लगातार मेडिकल हेल्प के जरिये इस संक्रमण को निष्क्रिय किया जाए. ताकि मरीजः एक सामान्य जीवन जी सके.

सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की ओर से एचआईवी संक्रमण और एड्स के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए अभियान चलाए जा रहे हैं. इसका असर भी पड़ा है और संक्रमण की दर घटी है. लेकिन हाल ही में एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है.

4 घंटे में घटा सकते हैं 2 किलो वजन, मैरी कॉम की इस स्पेशल एक्सरसाइज से कर दिखाएं कमाल

डब्ल्यूएचओ की तरफ से जारी एक रिपोर्ट 'नॉलेज इस पावर' के मुताबिक़ देश में एचआईवी से संक्रमित मरीजों में से 21 प्रतिशत को ये पता ही नहीं है कि उन्हें एड्स जैसी भयानक बीमारी है. इस वजह से इस संक्रमण के फैलने का ख़तरा और भी ज्यादा बढ़ गया है.

अगर आंकड़ों को देखें तो-

देश में 22.67 हजार एचआई संक्रमित महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया.

69.11 हजार लोगों की मौत एड्स की बीमारी के कारण हुई .

87.58 हजार नए एचआईवी पॉजटिव मामले 2017 में दर्ज .

21 लाख एचआईवी पॉजटिव मरीज इस समय देश में मौजूद .

56% मरीजों को ही एंटी रिट्रोवाइटल पद्धति से इलाज हो रहा.

23% लोग संक्रमित होने की जानकारी के बावजूद भी इलाज नहीं कराते .

 

First published: 24 November 2018, 10:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी