Home » इंडिया » 26/11 Mumbai Attack: After 26/11 mumbai attack more horrible terrorist attacks on India
 

26/11 मुंबई हमले के बाद भी कई बार लहूलुहान हुआ हिंदुस्तान, दिल्ली, वाराणसी सहित इन जगहों पर हुआ था धमाका

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 November 2018, 9:28 IST

मुंबई में हुए दिल दहला देने वाले हमले को कोई भी कभी नहीं भूल सकता और कल इसे हुए पूरे 10 साल हो जाएंगे. इसे आज भी कोई याद करता है तो रुह कांप उठती है. उस वक्त ऐसा दिन था जब धमाकों से मुंबई की सड़के थर्रा गई थी और हर तरफ चीख-पुकार सुनाई दे रही थी. मुंबई में हुए इस हमले में करीब 166 लोग मारे गए थे लेकिन इसके बाद भी आतंकियों ने कई बार भारत को निशाना बनाया. ये हमला काफी जोरदार था और इससे पूरा भारत दहल उठा था लेकिन ये हमला अंत नहीं शायद शुरूआत थी आतंकी हमलों की. इस हमले के बाद भी कई हमले हुए जिन्होंने सभी को अंदर तक झकझोर कर रख दिया.

 

 

पुणे अटैक

मुंबई में हुए साल 2008 में हमले के बाद साल 2010 में पुणे में भी हमला हुआ. ये हमला एक फेमस जर्मन बेकरी पर हुआ था जिसमें 17 लोगों की मौत हुई थी तो वहीं 60 लोग घायल हुए थे.

 

बनारस अटैक

उसी साल दूसरा हमला हुआ बनारस की घाट पर, जहां दूध के कंटेनर में बम छिपाकर रखा गया था. इस धमाके में 2 लोगों की मौत हुई थी तो वहीं 30 लोग घायल हो गए थे.ये हमला ऐतिहासिक दशाश्वमेध घाट पर हुआ था.

 

मुंबई अटैक

साल 2011 में एक बार फिर से मुंबई दहला था जब वहां के ओपेरा हाउस,जावेरी बाजार और दादर वेस्ट में तीन धमाके हुए थे. इन एक के बाद एक धमाकों ने मुंबई वासियों की रातों की नींद उड़ा दी थी.

 

दिल्ली अटैक

उसी साल 2011 में दिल्ली में बम धमाका हुआ था और ये धमाका दिल्ली हाई कोर्ट के बाहर हुआ था. इस धमाके में 15 लोगों की मौत हुई थी और 80 लोग घायल हुए थे.

 

पठानकोट अटैक

साल 2016 में हुए पठानकोट अटैक में 6 जवान शहीद हुए थे तो वहीं उसमें एक आम नागरिक भी शहीद हो गया था. हमलावरों ने पठानकोट के एयरबेस पर हमला किया था.

 

उरी अटैक

साल 2016 में ही हुए दूसरे हमला का गवाह है उड़ी अटैक. जहां पर हथियारों के साथ कई आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों के जवानों पर हमला कर दिया था और इस हमले में 19 जवान शहीद हो गए थे.

सुंजवान अटैक

इसी साल 2018 में हुए सुंजवान में आतंकी हमले में 6 जवान शहीद हो गए थे जबकि 1 नागरिक की मौत हो गई थी. हम शहीद हुए सभी शहीदों और नागरिकों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं और कामना करते हैं कि ऐसे दिन कभी वापस ना आए.

First published: 25 November 2018, 17:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी