Home » इंडिया » 263 million children, equivalent to 1/4 Europe's population, are out of school: UNESCO
 

शिक्षा से दूर दुनिया भर के 26 करोड़ बच्चे

शौर्ज्य भौमिक | Updated on: 20 July 2016, 8:26 IST
35
फीसदी

बच्चे जो स्कूल नहीं जाते हैं वे हिंसा प्रभावित 32 देशों में रहते हैं

दुनिया का हर देश 2030 तक प्रत्येक बच्चे को स्कूली शिक्षा देने की कोशिश में लगा है. हालांकि, यूनाइटेड नेशंस एजुकेशनल, साइंटिफिक एंड कल्चरल आर्गेनाइजेशन (यूनेस्को) के ताजा रिपोर्ट के अनुसार अधिकतर देश इस लक्ष्य से कोसों दूर हैं. यह रिपोर्ट इसी महीने प्रकाशित हुई है.

यहां कुछ आंकड़े हैं जो चुनौतियों को दिखा रहे हैं:

26.30
करोड़

  • बच्चे (6-17 वर्ष) दुनिया भर में स्कूल नहीं जाते हैं. यह आंकड़ा 2014 का है.
  • यह यूरोप की आबादी का चौथाई हिस्सा है.
  • रिपोर्ट के अनुसार लक्ष्य को प्राप्त करने में शिक्षा में असमानता प्रमुख बाधा है. जैसे लड़के और लड़कियों के बीच भेदभाव, गरीब और अमीर बच्चों के बीच फर्क. विशेष तौर पर यह भेदभाव माध्यमिक स्तर पर है.
  • उच्च माध्यमिक स्तर पर स्कूल ना जाने वाले बच्चों की संख्या सबसे ज्यादा है.

35
फीसदी

  • बच्चे जो स्कूल नहीं जाते हैं वे हिंसा प्रभावित 32 देशों में रहते हैं.
  • हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में 25 फीसदी बच्चे मिडिल स्कूल से बाहर हैं और 18 फीसदी बच्चे हाई स्कूल से बाहर हैं.

2.5
करोड़

  • बच्चे आज तक स्कूल नहीं गए और मौजूदा परिस्थितियों में उनके स्कूल जाने की संभावना न के बराबर है.
  • दुर्भाग्य से, स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों में लड़कियों की संख्या ज्यादा है.

1.1
करोड़

  • बच्चे भारत में स्कूल नहीं जाते हैं.
  • यह संख्या पाकिस्तान में स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों से दोगुनी और बांग्लादेश से पांच गुणा अधिक है.
  • हालांकि यह ध्यान देने वाली बात है कि इस आयु वर्ग में पड़ोसी देशों की तुलना में भारत में ज्यादा जनसंख्या है.
  • उच्च माध्यमिक स्तर पर भारत में 4.7 करोड़ बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं. यह संख्या इस आयु वर्ग में कुल आबादी का लगभग आधा है.

37.50
करोड़

  • बच्चे (दुनिया भर के) साल 2000 में स्कूल नहीं जाते थे.
  • आशा की किरण: पिछले 14 सालों में 26.30 करोड़ बच्चे स्कूल जाने में सफल हुए हैं लेकिन इस दौरान इस आयु वर्ग में जनसंख्या वृद्धि भी हुई है.

First published: 20 July 2016, 8:26 IST
 
शौर्ज्य भौमिक @sourjyabhowmick

संवाददाता, कैच न्यूज़, डेटा माइनिंग से प्यार. हिन्दुस्तान टाइम्स और इंडियास्पेंड में काम कर चुके हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी