Home » इंडिया » 34 U.S. MP urges Modi to take action against religious violence
 

34 अमेरिकी सांसदों ने भारत में धार्मिक तनाव पर पीएम मोदी को लिखा खत

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 February 2016, 22:20 IST

भारत में पिछले कुछ समय से धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ हो रहे हिंसा पर अमेरिका के 34 सांसदों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है. इस पत्र में अमेरिकी सांसदों ने इन हमलों पर चिंता व्यक्त करते हुए पीएम मोदी से उचित कदम उठाने को कहा है.

पत्र में सांसदों ने बीजेपी के वैचारिक संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे समूहों की गतिविधियों पर लगाम कसने की मांग की गई है.  इसके अलावा हर भारतीय के मूल नागरिक के अधिकारों के संरक्षण और इसका हनन करने वालों के खिलाफ कदम उठाने की भी मांग की गई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पीएम मोदी को लिखी इस चिट्ठी में अमेरिकी सांसदों ने कहा है कि 'हम भारत सरकार से धार्मिक अल्पसंख्यकों के मूल अधिकारों का संरक्षण के लिए फौरन एक्शन लेने की मांग करते हैं.'

इन सांसदों में आठ सीनेटर भी शामिल हैं. 25 फरवरी को लिखे पत्र में कहा गया है कि भारत के ईसाई, मुसलमान और सिख समुदायों से होने वाला बर्ताव विशेष चिंता की बात है. यह पत्र शनिवार को टॉम लंटोस मानवाधिकार आयोग की ओर से प्रेस को जारी किया गया है.

इन सांसदों ने पत्र में आरोप लगाया कि बस्तर जिले में ईसाइयों पर बार-बार हमले किए जा रहा हैं. सरकारी सेवाएं रोकी गई, वसूली की गई, जबरन निकालने की धमकी दी गई, भोजन पानी रोका गया और हिंदू धर्म स्वीकार करने के लिए दबाव डाला गया.

भारत में गोमांस पर प्रतिबंध पर चिंता जताते हुए सांसदों ने कहा कि यह तनाव बढ़ा रहा है और मुस्लिम समुदाय के खिलाफ हिंसा को बढ़ावा दे रहा. उन्होंने सिख समुदाय के विशिष्ट धर्म के रूप में पहचान नहीं होने पर भी चिंता जताई. अमेरिकी कांग्रेस के सदस्यों ने भारत में धार्मिक स्वतंत्रता और साम्प्रदायिक सौहार्द की सराहना भी की है.

इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साल 2014 में किया गया आस्था की पूरी आजादी के वादे का जिक्र किया गया है. पीएम मोदी ने कहा था कि किसी भी धार्मिक समूह को अन्य धार्मिक समूह के खिलाफ नफरत नहीं फैलाने दिया जाएगा. सांसदों ने प्रधानमंत्री से उस वादे को लागू करने का निवेदन भी किया है.

First published: 28 February 2016, 22:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी