Home » इंडिया » 35 cows killed as lightning strikes Prayagraj shelter
 

प्रयागराज की सरकारी गौशाला में कैसे हुई 35 गायों की मौत, लोगों ने उठाये सवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2019, 10:12 IST

प्रयागराज के बहादुरपुर इलाके में सरकार द्वारा संचालित अस्थायी गौशाला में भारी बारिश के दौरान बिजली गिरने से कुल 35 गायों की मौत हो गई. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार प्रयागराज जिला मजिस्ट्रेट भानु चंद गोस्वामी के नेतृत्व में एक टीम ने घटनास्थल का दौरा किया जबकि अन्य प्रभावित जानवरों की जांच के लिए पशु चिकित्सकों को भी बुलाया गया. मुख्य विकास अधिकारी, प्रयागराज, अरविंद सिंह ने कहा ''गौशाला में 344 जानवर थे''.

हिंदुस्तान की खबर के अनुसार स्थानीय लोगों ने कहा रात में कोई आकाशीय बिजली गिरी ही नहीं थी. स्थानीय लोगों का कहना है कि 52 बीघे तालाब में मौजूद गौशाला में पिछले दो-तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश से पानी भर गया था, भूख और पानी में फंस कर 50-60 गायों की मौत हुई है.

मुख्य विकास अधिकारी कहा ''हमें गौशाला द्वारा बताया गया कि गुरुवार की सुबह बिजली गिरने से 22 जानवरों की मौत हो गई. पशु चिकित्सकों के साथ अधिकारियों की एक टीम मौके पर गई थी. उपचार के दौरान 13 अन्य जानवरों की कुछ घंटे बाद मृत्यु हो गई.”

सिंह ने कहा, "हमने शेष जानवरों को अन्य गाय आश्रयों में स्थानांतरित कर दिया है." मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, प्रयागराज, डॉ. चंदन सिंह ने कहा, "जानवरों की मौत की ऑटोप्सी रिपोर्ट में बिजली गिरने के कारण मौत हुई है."

कन्नौज में पिछले महीने एक गौ आश्रय गृह में पांच जानवरों की मौत हो गई और कई बीमार हो गए. जिसके बाद लोगों ने आश्रय गृह के बाहर धरना दिया. कानपुर देहात में इस साल अप्रैल में एक अस्थायी गाय आश्रय में सात गायों और बछड़ों की मौत हो गई और पांच अन्य जानवर बीमार पड़ गए थे.

कर्नाटक संकट : सीएम कुमारस्वामी ने मांगी विश्वासमत प्रस्ताव पेश करने की अनुमति

राज्य सरकार के निर्देशों के बाद राज्य भर में 4,000 से अधिक अस्थायी गौ आश्रम खोले गए. इन अस्थायी आश्रयों में लगभग 2.25 लाख गायें थी. सरकार ने जिला अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया कि गौशालाएं आत्मनिर्भर हैं या नहीं और उनकी देखभाल के लिए पशुओं को सभी सुविधाएं दी जानी चाहिए.

First published: 13 July 2019, 9:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी