Home » इंडिया » 42 NGO including Mary Kom and Rajiv Gandhi Charitable served notice
 

मैरीकॉम का एनजीओ क्यों है मोदी सरकार के निशाने पर, नोटिस हुआ जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 March 2018, 12:24 IST

42 बड़े एनजीओ एक बार फिर से केंद्र की मोदी सरकार के निशाने पर आ गए हैं. इनमें ओलंपिक पदक विजेता और राज्यसभा सांसद मैरी कॉम का एनजीओ, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी की अध्यक्षता वाला गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट सहित नेसकॉम और एएमनेस्टी इंटरनेशनल भी शामिल हैं.

एक रिपोर्ट के मुताबिक इन सभी संस्थाओं को गृह मंत्रलाय ने नोटिस भेजकर इनको विदेश से मिलने वाले धन की जानकारी मांगी है. 

लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में केंद्रीय गृह मंत्री राज्य मंत्री किरन रिजिजू ने बताया कि मैरीकॉम के रीजनल बॉक्सिंग फाउंडेशन और 21 अन्य एनजीओ से विदेशी चंदे (एफसीआरए) पर सवाल जवाब किए हैं.

प्रमुख एफसीआरए-पंजीकृत बॉडी ने जिनको सवाल भेजे हैं उनमे बेंगलुरु स्थित सेंटर फॉर इंटरनेट एंड सोसाइटी भी शामिल है. सोसाइटी ने पिछले साल आधार डेटाबेस के बड़े पैमाने पर लीक का दावा किया था. जबकि राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट को लेकर कहा गया है कि उसे बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन से बड़ी मात्रा में फंड मिलता है.

रिपोर्ट के अनुसार गृह मंत्रालय ने प्रश्नावली में 32 सवाल पूछे हैं. अगर इन संगठनों के जवाब से मंत्रालय संतुष्ट नहीं हुआ है तो FCRA एक्ट के तहत इन पर बड़ी कार्रवाई की जा सकती है.

First published: 21 March 2018, 12:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी