Home » इंडिया » 5 Major terrorists attacks in India in the year 2016
 

साल 2016: यह साल भी आंतकी हमलों से अछूता नहीं रहा, 5 बड़े आतंकी हमले

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 December 2016, 17:58 IST

साल 2016 की शुरुआत में ही पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले ने पूरे देश को दहला दिया. 2 जनवरी को पंजाब के पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले में 7 जवान शहीद हो गए.  तीन दिन तक चली मुठभेड़ के बाद सभी 4 आतंकियों को मार गिराया गया. 

एनआइए द्वारा पठानकोट हमले में दाखिल पहली चार्जशीट में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर, उसके भाई रऊफ असगर और इनके दो अन्‍य सहयोगियों को मुख्य आरोपी बनाया गया है.

पठानकोट हमले के तुरंत बाद रऊफ ने एक वीडियो संदेश जारी कर आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली थी और अपने भाई अजहर गुणगान किया था. मसूद अजहर को 1999 में इंडियन एयरलाइन्स के विमान आईसी-814 के यात्रियों के बदले छोड़ा गया था.

25 जून को जम्मू-कश्मीर के पंपोर में लश्कर के दो फिदायीन आतंकियों ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया, जिसमें आठ जवान शहीद और 22 अन्य घायल हो गए. लश्कर ने इस हमले की जिम्मेदारी ली और कहा कि दो आत्मघाती हमलावरों ने इस हमले को अंजाम दिया.

इस घटना के कुछ महीने बाद आतंकियों ने एक बार फिर पंपोर में हमला किया. इस बार आतंकियों ने श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित उद्यमिता विकास संस्थान (ईडीआई) की इमारत को निशाना बनाया.

लगभग 60 घंटे चली मुठभेड़ में सेना ने दो आतंकवादियों को मार गिराया. फरवरी में भी आतंकियों ने इस इमारत को निशाना बनाया था. तब इस हमले में दो कैप्टन सहित तीन सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए थे जबकि तीन आतंकी मारे गए थे.

11 सितंबर को पुंछ के निर्माणाधीन मिनी सचिवालय की इमारत में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच तीन दिन तक मुठभेड़ चली. इस मुठभेड़ में 6 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए. जवाबी कार्रवाई में लश्कर-ए-तैयबा के 4 आतंकी भी मारे गए.

18 सितंबर को उरी सेक्टर में एलओसी के पास स्थित सेना के 12 ब्रिगेड के हेडक्वॉर्टर पर हुए आतंकी हमले में 19 सैनिक शहीद हो गए थे. सैन्य बलों ने तीन घंटे तक चली जवाबी कार्रवाई में सभी चार आतंकियों को ढेर कर दिया था.

डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणवीर सिंह के मुताबिक उरी में ढेर किए गए चारों आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के थे. इस हमले में शहीद हुए 19 जवानों में ज्यादातर डोगरा रेजीमेंट और बिहार रेजीमेंट से थे. हाल के वर्षों में इस हमले को  सैन्‍य बलों पर सबसे बड़ा आतंकी हमला बताया गया. 

जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में  हथियारों से लैस आतंकवादियों ने पुलिस की वर्दी में आतंकवादियों ने सेना की आर्टिलरी यूनिट पर हमला किया.

आतंकियों ने दो इमारतों में हमला किया जहां अफसर अपने परिवार के साथ मौजूद थे. ऐसे में बंधक संकट जैसी स्थिति पैदा हो गई. त्वरित कार्रवाई करते हुए सभी को वहां से सुरक्षित निकाल लिया गया. इनमें 12 सैनिक, दो महिलाएं और दो बच्चे शामिल थे.

हालांकि इस हमले में 2 अफसरों समेत 7 सैनिक शहीद हो गए. जवाबी कार्रवाई में तीन आतंकवादियों को भी मार गिराया गया.

First published: 28 December 2016, 17:58 IST
 
अगली कहानी