Home » इंडिया » 7 things that make difference at 67th Republic Day parade
 

7 तरीकों से 67वां गणतंत्र दिवस की परेड अलग रहा

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 January 2016, 17:48 IST

मंगलवार को 67वें गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद मौजूद रहे. यह पांचवां मौका है जब फ्रांस के प्रमुख को इस दौरान सम्मान दिया गया.

इस बार की परेड मेें सात ऐसी नई बातें हुईं जो इसे बाकी गणतंत्र दिवस परेड में से खास बनाती हैं. 

  1. आज तक के इतिहास में पहली बार एक विदेशी सेना ने भारतीय सैनिकों के साथ राजपथ पर मार्च किया. 123 फ्रांसीसी सैनिकों के दल में 56 सदस्यीय फ्रांसीसी वायु सेना सैन्य बैंड और 80 सेना दल के सदस्यों ने हिस्सा लिया.
  2. एक और पहल इस बार यह हुई कि सीआरपीएफ के पारंपरिक पुरुष दल की परेड के स्थान पर सभी महिला सदस्य शामिल हुईं.
  3. हमेशा की तरह 115 मिनट लंबे समारोह को कम करके 90 मिनट का कर दिया गया.
  4. भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के कम से कम 27 विमानों ने परेड के दौरान राजपथ के ऊपर से उड़ान भरी. इनमें सी-130 जे सुपर हरक्यूलिस, सी-17, एसयू-30 एमकेआई, जगुआर और मिग-29 विमान शामिल रहे. 
  5. परेड के दौरान मोटरसाइकिल पर सेना के अधिकारियों द्वारा भी स्टंट का प्रदर्शन किया गया.
  6. 26 साल के लंबे अंतराल के बाद एक कुत्तों के दल ने राजपथ पर मार्च किया. इनमें सेना के 36 लैब्राडॉर और जर्मन शेफर्ड शामिल थे.
  7. परेड में कुल 23 झांकियां निकाली गईं. 29 राज्यों का प्रतिनिधित्व करने वाली 17 झांकियों के अलावा एक झांकी में डॉ. भीमराव आंबेडकर की एक मूर्ति तो अन्य में गिर फॉरेस्ट की एक प्रतिकृति और 'स्वच्छ भारत' और 'डिजिटल इंडिया' जैसी पहल को चित्रित किया गया.

तकनीकी मोर्चे पर एक विशेष वायरलेस इंटीग्रेटेड पब्लिक एड्रेस (डब्ल्यूआईपीए) सिस्टम को दिल्ली के आसपास स्थापित किया गया था. इनमें 31 भीड़भाड़ वाले स्थान और 13 मेट्रो स्टेशन भी शामिल हैं.

गत वर्ष के समारोह से सबक सीखते हुए राजपथ पर वीवीआईपी दीर्घा को मोटरयुक्त कांच के साथ कवर किया गया था. क्योंकि गत वर्ष के समारोह में अचानक हुई बारिश ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनकी पत्नी मिशेल ओबामा को भिगो दिया था.

First published: 26 January 2016, 17:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी