Home » इंडिया » 75% of militants killed in Kashmir Valley were locals
 

इस साल कश्मीर घाटी में मारे गए आतंकियों में से 75 फीसदी स्थानीय

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 June 2019, 11:45 IST

इस साल कश्मीर घाटी में मारे गए लगभग 75% आतंकवादी स्थानीय थे. जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने कहा कि यद्यपि प्राथमिकता पाकिस्तान प्रशिक्षित आतंकवादियों को मारने की थी, लेकिन बड़ी संख्या में स्थानीय लोग मारे गए क्योंकि वे आतंकवादियों की श्रेणी में शामिल हो गए थे. पुलिस के आंकड़ों के अनुसार, घाटी में अब तक मारे गए 101 आतंकवादियों में से 76 स्थानीय थे.

दो दशक से अधिक समय में यह पहली बार है जब पुलिस मुठभेड़ों में मारे गए स्थानीय लोगों की संख्या विदेशी आतंकवादियों से अधिक है. पिछले साल, पुलिस मुठभेड़ों में मारे गए 246 आतंकवादियों में से 60%, या 150, स्थानीय थे. हिन्दू की रिपोर्ट के अनुसार मालिक ने कहा कि ''अगर आपको याद हो तो 2016 में बुरहान वानी के मारे जाने के बाद तीन महीने से ज्यादा समय से अशांति थी. कुछ दिनों पहले, जाकिर मूसा मारा गया था. इसके बाद से आतंकवादी कमजोर पड़ रहे हैं.

ज़ाकिर राशिद भट उर्फ मूसा अल-कायदा से जुड़े अंसार ग़ज़ावत-उल-हिंद (एजीयूएच) का प्रमुख था. पूर्व हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के 8 जून 2016 को पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने के बाद, घाटी में उग्रवाद से संबंधित घटनाएं हुईं और पिछले तीन वर्षों में सैकड़ों युवा आतंकवादी समूहों में शामिल हो गए. एक मुठभेड़ में सुरक्षा बलों द्वारा मूसा के मारे जाने के बाद पिछले महीने दक्षिण कश्मीर और अन्य हिस्सों में बंद लागू किया गया था.

आईआईटियन दे रहा था वेबसाइट पर PM मोदी के नाम से फ्री लैपटॉप का ऑफर, गिरफ्तार

First published: 3 June 2019, 11:45 IST
 
अगली कहानी