Home » इंडिया » A unique wedding of frogs organised by locals to appease rain Gods
 

बरसो रे मेघा...मेढक की शादी से होगी बारिश!

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 August 2016, 16:27 IST
(सांकेतिक तस्वीर)

क्या आपने कभी किसी मेढक और मेढकी की शादी होते देखी है. कभी बारातियों को उत्साहपूर्वक मेढक की शादी के लिए सज-धजकर तैयार होते देखा है. ज्यादातर का जवाब नहीं होगा. तो चलिए हम आपको लेकर चलते हैं एक ऐसी जगह, जहां मेढक और मेढकी शादी के लाल जोड़े में लिपटे नजर आए.

उत्तर भारत के अलग-अलग हिस्सों में भारी बारिश और बाढ़ से बुरा हाल है. लाखों की आबादी बुरी तरह प्रभावित हुई है. जान-माल का भी भारी नुकसान हुआ है. वहीं पूर्वी भारत के राज्य असम के कुछ हिस्सों में इस मानसून में कम बारिश हुई है, जिसके चलते लोगों के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई हैं.

असम के जोरहट की घटना

असम के जोरहट में भी इस बार उम्मीद के मुताबिक बारिश नहीं हुई है. किसानों की चिंताएं बढ़ गई हैं. ऐसे में लोगों ने एक अनूठा कदम उठाया है. इसे अंधविश्वास या अवैज्ञानिक कहा जा सकता है, लेकिन कहते हैं कि आस्था के आगे तर्क बेमानी हो जाते हैं.

जोरहट में लोगों ने मेढक की अनोखी शादी का आयोजन किया. बारिश के देवता को प्रसन्न करने के लिए यहां के लोग बड़े ही उत्साह के साथ मेढक और मेढकी की शादी में शरीक होने पहुंचे. इस दौरान केले के पत्ते पर मेढक को बिठाकर विधि-विधान से शादी कराई गई.

अब भले ही इसका नतीजा जो भी निकले, लेकिन लोगों को लगता है कि शायद ऐसा करने से उनके यहां बारिश होगी और इलाके में खुशहाली आएगी. पूर्वी भारत ही नहीं उत्तर भारत में भी लोग इस तरीके के आयोजन करते रहते हैं. यूपी के बांदा और सोनभद्र में भी अच्छी बारिश की आस में इस मानसून सीजन के दौरान मेढक और मेढकी की अनूठी शादी कराई गई.

First published: 29 August 2016, 16:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी