Home » इंडिया » Aadhaar card and Aadhaar number will be secure via virtual id says uidai, Aadhar card link, Aadhaar card virtual id
 

यूआडीएआई का नया प्लान, आपका आधार रहेगा सुरक्षित

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 January 2018, 9:42 IST

सरकार ने तमाम कार्यों के लिए आधार कार्ड या उसके यूनिक नंबर को अनिवार्य कर दिया है. लेकिन इन सेवाओं को जारी रखने के लिए जब आप बार-बार आधार कार्ड या आधार नंबर को दर्ज कराने के लिए आपके आधार के डेटा की गोपनीयता का भी खतरा बना रहता है. हालांकि अब चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि अब आपको इस झंझट से छुटकारा मिलने वाला है, साथ ही साथ आपके आधार का डेटा और भी ज्यादा सुरक्षित होने वाला है.

 

दरअसल, आधार कार्ड की सुरक्षा को लेकर उठ रहे तमाम सवालों के चलते अब इस सरकार इसमें कुछ बदलाव करने जा रही है. बता दें कि आधार कार्ड लाने वाली यूआडीएआई यानी भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण अब वर्चुअल आधार आईडी लाने वाली है. इसके तहत आपको 16 अंकों का टेंपररी नंबर मिला करेगा.

जिसे लोग जब चाहे अपने आधार कार्ड के बदले शेयर कर सकते हैं. हालांकि अभी इस सेवा को शुरू करने में लगभग दो महीने से ज्यादा का समय लगेगा. ऐसे में यूआईडीएआई की उम्मीद है कि यह अवधारणा मार्च के अंत तक सफलता के साथ शुरू हो जाएगी.

यूआडीएआई वर्चुअल आईडी को लेकर पिछले कई महीने से काम कर रहा है. इस बाबत यूआईडीएआई ने पिछले ही दिनों घोषणा की थी कि हम वर्चुअल आईडी लाने वाले हैं. क्योंकि यूआईडीएआई डाटाबेस के अनधिकृत उपयोग और आधार की गोपनीयता के बार में एक अखबार ने चिंता व्यक्त की थी. इसके अलावा डाटा चोरी होने के आरोप भी लगाए थे.

 

इस नई प्रणाली को यूआईडीएआई द्वारा लाने का उद्देश्य आधार संख्या के लीक होने और दुरुपयोग के मामलों को कम करना है. साथ ही करीब 119 करोड़ लोगों की पहचान संख्या की गोपनीयता को बढ़ावा देना है. ऐसे में आधार डिटेल देने के समय या फिर वेरिफिकेशन के वक्त इसी 16 अंको (वर्चुअल आईडी) से काम चल जाएगा.

इसके साथ-साथ आपकी गोपनीयता को ध्यान में रखते हए यह 16 अंकों की वर्चुअल आईडी कुछ समय के लिए ही मान्य होगी. गोपनीयता के चलते एक तय समय के बाद यूजर को अपनी नई आईडी जारी करनी होगी.

इस वर्चुअल आईडी में 16 रैंडम अंक होंगे. इससे फोन कंपनियां या बैंकों को आधार धारक की सीमित जानकारी मसलन नाम, पता और फोटोग्राफ मिले सकेगा, जोकि उस व्यक्ति की पहचान साबित करने के लिए पर्याप्त होगा. हालांकि गोपनीयता के चलते वर्चुअल आईडी से आपके आधार नंबर की जानकारी किसी को नहीं मिलेगी.

आधार कार्ड धारक खुद से दिन में कई वर्चुअल आईडी जेनेरेट कर सकता है. जैसे ही वह नई आईडी जेनेरेट करेगा, पुरानी आईडी खुद-ब-खुद रद्द हो जाएगी. इस वर्चुअल आईडी के साथ खास बात ये होगी कि कोई भी इस वर्चुअल आईडी से आपके आधार के साथ छेड़छाड़ नहीं कर पाएगा.

First published: 11 January 2018, 9:42 IST
 
अगली कहानी