Home » इंडिया » aap challenge to amit shah over pm degree
 

पीएम डिग्री विवाद: आरोपों पर कायम आप का पलटवार

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 May 2016, 21:07 IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शैक्षिक योग्यता और डिग्री पर प्रश्नचिन्ह लगाने वाले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के आरोपों का जवाब देते हुए बीजेपी ने पीएम मोदी की बीए और एमए की डिग्री सार्वजनिक कर दी है.

इस बीच आम आदमी पार्टी अपने आरोपों पर कायम है. बीजेपी की प्रेसवार्ता के तुरंत बाद आम आदमी पार्टी की ओर से प्रवक्ता आशुतोष और दिलीप पांडे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए डिग्री को फिर फर्जी करार दिया है.

'पीएम की डिग्री झूठी'


आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने बयान जारी करते हुए कहा कि अमित शाह और अरुण जेटली ने कोई नए दस्तावेज नहीं दिखाए हैं. उन्होंने पीएम की जो डिग्री दिखाई है, वो पूरी तरह से फर्जी है.

आशुतोष ने कहा, "बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी ने पूरी दुनिया और देश को धोखा दिया है. उनकी डिग्री फर्जी है. दिल्ली यूनीवर्सिटी में उनके रजिस्ट्रेशन नंबर और रोल नंबर का कोई रिकॉर्ड नहीं है."

रिकॉर्ड चेक कराने की मांग


आप प्रवक्ता आशुतोष ने कहा कि, "पीएम मोदी की बीए की मार्कशीट में उनका नाम नरेंद्र कुमार दामोदर दास मोदी लिखा है. जबकि डिग्री में नरेंद्र दामोदर दास मोदी लिखा है. पीएम के नाम में यह अंतर कैसे आया." 

पढ़ें: पीएम डिग्री विवाद: जेटली ने आप पर बोला हमला

आशुतोष ने कहा कि सबको पता हैै नाम बदलने के लिए हलफनामा देना पड़ता है. आशुतोष ने सवाल पूछा कि पीएम के बीए की मार्कशीट में पास होने का साल 1977 है, तो डिग्री में साल 1978 क्यों लिखा है.

'मार्कशीट-डिग्री के साल में अंतर'


आप प्रवक्ता ने कहा कि अभी तक यह कहा जा रहा था कि पीएम मोदी ने 1978 में बीए किया, तो मार्कशीट 1977 की कैसे हुई.

aap-pm-modi

वहीं आम आदमी पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता आशीष खेतान ने इस मामले में टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर अमित शाह के दावों में एक फीसदी भी सच्चाई है तो मैं अमित शाह जी को चुनौती देता हूं कि वे अपने आज के सारे अपॉइंटमेंट रद्द करें.

आशीष खेतान ने कहा कि अमित शाह हमारे साथ दिल्ली यूनीवर्सिटी चलकर दस्‍तावेजों की जांच करें. सच और झूठ सबके सामने आ जाएगा.

वहीं गुजरात यूनीवर्सिटी से उनकी एमए की डिग्री में एंटायर पॉलिटिकल साइंस विषय पर आप ने सवाल उठाए. इस पर यूनीवर्सिटी ने सफाई देते हुए कहा है कि जो बाहरी छात्र एक ही विषय से एमए करता है, उसकी डिग्री में ऐसा ही लिखा जाता था.

इससे पहले भी छह मई को आप ने दावा किया था कि उसके पास ऐसे नए दस्तावेज हैं, जिसके आधार पर साबित किया जा सकता है कि पीएम ने दिल्ली यूनीवर्सिटी से स्नातक डिग्री हासिल करने के बारे में झूठी जानकारी दी है. 

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को दिल्ली विश्वविद्यालय से आग्रह किया था कि वो पीएम मोदी की डिग्री को लोगों के लिए वेबसाइट पर सार्वजनिक करे और सुनिश्चित करे कि डिग्री के दस्तावेज सुरक्षित हैं. 

आप का आरोप है कि हकीकत में ऐसे कोई दस्तावेज ही नहीं हैं कि पीएम मोदी ने 1978 में डीयू से डिग्री हासिल की. पीएम ने इस बारे में जानकारी 2014 के लोकसभा चुनाव के हलफनामे में दी है.

आप का दावा है कि पीएम मोदी की ओर से दी गई ग्रेजुएशन की तारीख वाले दिन नरेंद्र महावीर मोदी के नाम से ग्रेजुएट होने की जानकारी हासिल हुई है. आप के मुताबिक ये नरेंद्र महावीर मोदी राजस्थान के अलवर जिले के हैं, जबकि बीजेपी ने स्कूल सर्टिफिकेट के आधार पर कहा है कि पीएम मोदी गुजरात के बड़नगर से हैं. 

वहीं एक निजी न्यूज़ चैनल ने जब पीएम मोदी की तरह नाम वाले शख्स से संपर्क किया, तो उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि वो 1975 से 1978 तक दिल्ली यूनीवर्सिटी में थे और केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली कॉलेज में उनके सीनियर थे. 

न्यूज़ चैनल के मुताबिक उस शख्स ने कहा कि ये मेरे लिए संयोग की बात है कि मुझे भी नरेंद्र मोदी कहा जाता है. मेरे लिए यह गर्व का विषय है.

बीजेपी ने बोला था हमला

आप की प्रेसवार्ता के पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बीए और एमए की डिग्री सार्वजनिक करते हुए केजरीवाल से मांफी मांगने की अपील की थी.

अमित शाह ने अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने बिना तथ्यों की जांच किए कैसे देश के प्रधानमंत्री पर इतना बड़ा आरोप लगा दिया.

वहीं वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि 1978 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाहरी उम्मीदवार के तौर पर दिल्ली यूनीवर्सिटी से बीए किया, उसके बाद गुजरात यूनीवर्सिटी से एमए किया.

जेटली ने कहा, "उस समय मैं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का अध्यक्ष हुआ करता था. तब लोग उन्हें ज्यादा जानते भी नहीं थे. वह एबीवीपी के कार्यालय में रुककर दिल्ली विश्वविद्यालय की परीक्षा दिया करते थे."

First published: 9 May 2016, 21:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी