Home » इंडिया » AAP disqualification plea: This is the reason behind the court's decision in favor of AAP MLAs
 

AAP विधायकों को रद्द करने का चुनाव आयोग का फैसला अदालत के सामने क्यों नहीं टिक सका ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 March 2018, 15:34 IST

दिल्ली हाईकोर्ट नेगरुवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को चुनाव के अयोग्य घोषित किये जाने के फैसले को रद्द कर दिया है. न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और चंदर शेखर की पीठ ने 28 फरवरी को इस पर फैसला सुरक्षित रखा था. अदालत ने अपने फैसले में यह भी कहा है कि चुनाव आयोग विधायकों की याचिका पर दोबारा सुनवाई करे. अदालत के इस फैसले के बाद चुनाव आयोग की  निष्पक्षता पर भी सवाल उठना लाज़मी है.   

विधायकों की अयोग्यता के मामले में याचिकाकर्ता प्रशांत पटेल का कहना है कि ''अदालत ने कहा है कि यह मामला फिर से खोला जाएगा.मैंने अभी एक संवैधानिक मुद्दा उठाया है, मेरे लिए कोई झटका नहीं है''

विधायकों ने क्या कहा था अदालत को दी अपनी याचिका में 

इस सभी 20 विधायकों ने चुनाव आयोग के आदेश को रद्द करने के खिलाफ एक याचिका दायर की थी और तर्क दिया था कि चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद दी अपनी राय में प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों का उलंघन किया है. इसमें कहा गया था कि चुनाव आयोग ने इस मामले में विद्यायकों से कोई संवाद नहीं किया. जो यह प्राकृतिक न्याय का पूरा उल्लंघन है." यह भी तर्क दिया गया था कि तर्क समझाने का मौका नहीं दिया गया.

विधायकों की बात नहीं सुनी गई 

इसमें यह भी कहा गया था कि एक पूर्णकालिक जांच न किए बिना अस्थायी सरकारी नियोक्ता हटाया नहीं जा सकता है. हालांकि, वर्तमान मामले में विधानसभा के सदस्यों को पूरी तरह से जांच किए बिना हटा दिया गया था. विधायकों की अयोग्यता की सिफारिशों को राष्ट्रपति को 19 जनवरी को भेजा गया था, जिसके अगले दिन राष्ट्रपति कोविन्द ने इसे स्वीकार कर लिया था.

चुनाव आयोग पर AAP ने उठाये थे सवाल  

चुनाव आयोग के आप विधायकों को अयोग्य करार देने के फैसले के बाद मीडिया से बात करते हुए आम आदमी पार्टी के नेता सौरव भारद्वाज का कहना था कि चुनाव आयोग ने बिना विधायकों की गवाही के यह कार्रवाई की. भारद्वाज ने कहा मुख्य चुनाव आयुक्त अचल कुमार जोति का 23 जनवरी को जन्मदिन है. वह 65 साल के हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें : कौन हैं मुख्य चुनाव आयुक्त अचल कुमार ज्योति, जो AAP के निशाने पर आ गए हैं

भारद्वाज ने कहा रिटायर होने से पहले वह पीएम मोदी का कर्ज उतारना चाहते हैं.  सौरभ भारद्वाज ने कहा था कि किसी विधायक के पास सरकारी गाड़ी और बंगाल नहीं है. उनके पास कोई अकाउंट ऐसा नहीं है, जिसमें एक रुपये की भी तनख्वाह मिली है.

ये विधायक हुए थे अयोग्य 

  • प्रवीण कुमार-
  • शरद कुमार
  • आदर्श शास्त्री-
  • मदन लाल-
  • शिव चरण गोयल-
  • संजीव झा-
  • सरिता सिंह-
  • नरेश यादव-
  • राजेश गुप्ता-
  • राजेश ऋषि-
  • अनिल कुमार वाजपेयी-
  • सोम दत्त-
  • अवतार सिंह-
  • विजेंदर गर्ग विजय-
  • जरनैल सिंह-
  • कैलाश गहलोत-
  • अलका लांबा-
  • मनोज कुमार-
  • नितिन त्यागी-
  • सुखवीर सिंह-
First published: 23 March 2018, 15:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी