Home » इंडिया » Aam Admi Party praises Sushma Swaraj's speech in UN geneal assembly
 

'सुनो नवाज-राहिल लंपटों भारतीय सिंहनी ने पाक के लुंज-पुंज पक्ष को तार-तार किया'

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 September 2016, 9:49 IST

संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान को करारा जवाब देने वाली विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के भाषण की आम आदमी पार्टी ने तारीफ की है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और आप के नेता कुमार विश्वास भी सुषमा के अंदाज-ए-बयां के कायल हो गए.  

ट्विटर पर आप नेता कुमार विश्वास ने सुषमा स्वराज के भाषण को ऐतिहासिक बताते हुए कहा, "सधे-गूंजते स्वर के पाक के लुंजपुंज पक्ष को संयुक्त राष्ट्र महासभा में तार-तार किया भारतीय सिंहनी सुषमा स्वराज ने. शरीफ़ नामधारी नवाज़ व राहिल लम्पटों सुनो अब."

कुमार विश्वास ने पाकिस्तान के गलत प्रचार को अलग-थलग करने में इसे करारा जवाब बताया. सुषमा को भारतीय राजनीति में सबसे उम्दा वक्ताओं में से एक बताते हुए विश्वास ने उनकी प्रशंसा में एक और ट्वीट किया.

'जय हिंद जय हिंदी'

कुमार विश्वास ने लिखा, "सुषमा स्वराज ने यूएनजीए में सिद्ध किया कि मां हिन्दी की शक्ति काग़ज़ से पढ़ी गई कम्पित अंग्रेज़ी से कहीं अचूक है. जय हिंद,जय हिंदी."

आप नेता ने साथ ही कहा कि उन्होंने पहले से लिखित अंग्रेजी का भाषण देने के बजाय अपना भाषण बिना किसी पूर्व तैयारी के हिंदी में दिया.

केजरीवाल ने भी दी बधाई

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीर और आतंकवाद पर पाकिस्तान को करारा जवाब देने पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी उनकी तारीफ की है.

आम आदमी पार्टी ने उनके भाषण को भारतीय गौरव की निर्भीक आवाज करार दिया है. केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए कहा, "सुषमा जी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत के दृष्टिकोण को बखूबी रखा है. उन्हें बधाई."

'मित्रता के बदले उरी-बहादुर अली मिला'

सुषमा स्वराज ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 71वें अधिवेशन में आतंकवाद का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा कि आतंकवाद मानवाधिकार का सबसे बड़ा उल्लंघन है.

नवाज शरीफ के यूएन में दिए गए बयान का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि भारत में मानवाधिकार का उल्लंघन होता है तो वह उनसे ये ही कहना चाहेंगी कि जिनके अपने घर शीशे के हों, उन्हें दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकना चाहिए.

सुषमा ने कहा, "हमने दो सालों में मित्रता का नया पैमाना रखा था लेकिन हमें मिला क्या उरी, पठानकोट और बहादुर अली. बहादुर अली तो हमारे पास जिंदा सबूत है. मैं एक बार पाकिस्तान को बता देना चाहती हूं कि इस तरह के बयानों से वो भारत का कोई हिस्सा लेना चाहते हैं तो वो ये सपना देखना छोड़ दें. मैं उन्हें बता देना चाहती हूं कि कश्मीर और जम्मू भारत का अभिन्न हिस्सा है."

First published: 27 September 2016, 9:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी